Shayari on Attitude

Attitude Shayari, Logon Ko Jalaya Jaye

Very Positive Attitude Shayari in Hindi

Attitude Shayari, Logon Ko Jalaya Jaye

Chalo Aaj Phir Thoda Muskuraya Jaye,
Bina Maachis Ke Logon Ko Jalaya Jaye.
चलो आज फिर थोडा मुस्कुराया जाये,
बिना माचिस के कुछ लोगो को जलाया जाये।


Rehte Hain Aas-Paas Hi Lekin Saath Nahi Hote,
Kuchh Log Mujhse Jalte Hain Bas Khaak Nahi Hote.
रहते हैं आस-पास ही लेकिन पास नहीं होते,
कुछ लोग मुझसे जलते हैं बस ख़ाक नहीं होते।

...Read More Shayaris
Ads by Google

Attitude Shayari, Anjaam Ki Parwaah

Nice Shayaris about High Attitude in Hindi

Zamin Par Rah Kar Aasmaan
Chhune Ki Fitrat Hai Meri,
Par Gira Kar Kisi Ko
Upar Uthane Ka Shauk Nahi Mujhe.
ज़मीं पर रह कर आसमां
छूने की फितरत है मेरी,
पर गिरा कर किसी को,
ऊपर उठने का शौक़ नहीं मुझे।

...Read More Shayaris
Ads by Google

Attitude Shayari, Bhulna Humein Bhi Aata Hai

Nice Attitude Shayari in Hindi

Bhulkar Hamein Agar Tum Rehte Ho Salamat,
Toh BhulKe Tumko Sambhlna Humein Bhi Aata Hai,
Meri Fitrat Mein Yeh Aadat Nahi Hai Varna,
Teri Tarah Badal Jana Humein Bhi Aata Hai.

भूलकर हमें अगर तुम रहते हो सलामत,
तो भूलके तुमको संभलना हमें भी आता है,
मेरी फ़ितरत में ये आदत नहीं है वरना,
तेरी तरह बदल जाना हमें भी आता है।

Attitude Shayari, Behisaab Muskura Deta Hun

High Attitude Shayari in Two Lines, Hindi and English font

Attitude Shayari, Behisaab Muskura Deta Hun

Dushmano Ko Sazaa Dene Ki Ek Tehzeeb Hai Meri,
Main Haath Nahi Uthhata Bas Najron Se Gira Deta Hun.
दुश्मनों को सज़ा देने की एक तहज़ीब है मेरी,
मैं हाथ नहीं उठाता बस नज़रों से गिरा देता हूँ।


Bewaqt, Bewahaj, Behisaab Muskura Deta Hun,
Aadhe Dushmano Ko Toh Yun Hi Haraa Deta Hun.
बेवक़्त, बेवजह, बेहिसाब मुस्कुरा देता हूँ,
आधे दुश्मनो को तो यूँ ही हरा देता हूँ।

...Read More Shayaris
Ads by Google

Hindi Attitude Shayari, Chamak Mere Kirdaar Ki

Nice Attitude Shayari Status

Chamak Suraj Ki Nahi Mere Kirdaar Ki Hai,
Khabar Ye Aasmaan Ke Akhbaar Ki Hai,
Main Chaloon To Mere Sang Kaarwan Chale,
Baat Guroor Ki Nahi Aitwaar Ki Hai.
चमक सूरज की नहीं मेरे किरदार की है,
खबर ये आसमाँ के अखबार की है,
मैं चलूँ तो मेरे संग कारवाँ चले,
बात गुरूर की नहीं, ऐतबार की है।

...Read More Shayaris