1. Home
  2. Dard Bhari Shayari
  3. Dard Bhari Shayari Dard Ki Shiddat

Dard Bhari Shayari, Dard Ki Shiddat

Hidden Pain of Innocent Lover in 2 Line Shayari

By | 17 Dec 2015 |
Dard Bhari Shayari, Dard Ki Shiddat
Ads by Google

Zakhm De Kar Na Poochh Dard Ki Shiddat,
Dard To Fir Dard Hai Kam Kya Jyada Kya.
ज़ख्म दे कर ना पूछ तू मेरे दर्द की शिद्दत,
दर्द तो फिर दर्द है कम क्या ज्यादा क्या।

Log Kahte Hain Hum Muskrate Bahut Hain,
Aur Hum Thak Gaye Dard Chhupate Chhupate.
लोग कहते है हम मुस्कुराते बहुत है,
और हम थक गए दर्द छुपाते छुपाते।

Andar Koyi Jhanke To Tukado Me Milunga,
Ye Hasta Hua Chehra To Dikhane Ke Liye Hai.
अंदर कोई झाँके तो टुकड़ों में मिलूंगा,
ये हँसता हुआ चेहरा तो दिखाने के लिए है।

Ads by Google

Umr Bhar Rulane Wale Dard Shayari
Waqt Har Zakhm Ka Marham Ton Ban Nahi Sakta,
Dard Kuchh Hote Hain Ta-Umr Rulane Wale.
वक़्त हर ज़ख़्म का मरहम तो नहीं बन सकता
दर्द कुछ होते हैं ता-उम्र रुलाने वाले।

Badle Toh Nai Hain Woh Dil-o-Jaan Ke Qareene,
Aankhon Ki Jalan Dil Ki Chubhan Ab Bhi Wahi Hai.
बदले तो नहीं हैं वो दिल-ओ-जान के क़रीने,
आँखों की जलन दिल की चुभन अब भी वही है।

Hawa Se Lipti Hui Siskiyon Se Lagta Hai,
Meri Kahani Kisi Aur Ne Bhi Dhohrayi Hai.
हवा से लिपटी हुयी सिसकियों से लगता है,
मेरी कहानी किसी और ने भी दोहराई है।

Ads by Google

Dard Shayari, Maine Dard Ko Chaha