Read Dard Shayari in Hindi

Dard Shayari, Bahut Dard Seh Liye

Poignant Hindi Dard Shayari about Pain Of a Lover

Dard Shayari, Bahut Dard Seh Liye

Ab Toh Daaman-e-Dil Chhod Do Bekaar Ummeedo,
Bahut Dard Seh Liye Maine Bahut Din Jee Liya Maine.
अब तो दामन-ए-दिल छोड़ दो बेकार उमीदों,
बहुत दर्द सह लिए मैंने बहुत दिन जी लिया मैंने।

Tujhse Pahle Bhi Kayi Zakhm The Seene Mein Magar,
Ab Ke Woh Dard Hai Ke Ragein TootTi Hain.
तुझसे पहले भी कई जख्म थे सीने में मगर,
अब के वह दर्द है दिल में कि रगें टूटती हैं।

...Read More Shayaris

Advertisement

Painful Shayari, Dard Mein Izafa

Pain and Sadness a Lover Expressed in Heartrending Dard Shayari

Aur Bhi Kar Deta Hai Mere Dard Mein Izafa,
Tere Rahte Huye Ghairon Ka Dilaasa Dena.
और भी कर देता है मेरे दर्द में इज़ाफ़ा,
तेरे रहते हुए गैरों का दिलासा देना।

Sab So Gaye Apna Dard Apno Ko Suna Ke,
Koi Hota Mera To Mujhe Bhi Neend Aa Jaati.
सब सो गए अपना दर्द अपनों को सुना के,
कोई होता मेरा तो मुझे भी नींद आ जाती।

...Read More Shayaris

Advertisement

Dard Shayari, Zakhm Barhta Gaya

Shayari about Fake Smile and Painful Heart

Dard Shayari, Zakhm Barhta Gaya

Jhuthhi Hansi Se Zakhm Aur Barhta Gaya,
Iss Se Behtar Tha KhulKar Ro Liye Hote.
झूठी हँसी से जख्म और बढ़ता गया,
इससे बेहतर था खुलकर रो लिए होते।

Dil Ke Zakhmo Ko Hawa Lagti Hai,
Saans Lena Bhi Yahan Aasaan Nahi Hai.
दिल के ज़ख्मों को हवा लगती है,
साँस लेना भी यहाँ आसान नहीं है।

...Read More Shayaris

Dard Shayari, Dard-e-Dil Ka Mazaa

Hindi Dard Shayari Sms about Pain of Heart

Dard Shayari, Dard-e-Dil Ka Mazaa

Mujhko Toh Dard-e-Dil Ka Mazaa Yaad Aa Gaya,
Tum Kyun Huye Udaas Tumhein Kya Yaad Aa Gaya?
Kahne Ko Zindgi Thi Bahut Mukhtsar Magar,
Kuchh Yoon Huyi Basar Ki Khuda Yaad Aa Gaya.
मुझको तो दर्द-ए-दिल का मज़ा याद आ गया,
तुम क्यों हुए उदास तुम्हें क्या याद आ गया?
कहने को जिंदगी थी बहुत मुख्तसर मगर,
कुछ यूँ बसर हुई कि खुदा याद आ गया।

...Read More Shayaris

Advertisement

Dard Shayari, Ek Naya Dard

Painful Dard Shayari Lines from a Sad Lover

Kis Dard Ko Likhte Ho Itna Doob Kar,
Ek Naya Dard De Diya Hai Usne Yeh Puchh Kar.
किस दर्द को लिखते हो इतना डूब कर,
एक नया दर्द दे दिया है उसने ये पूछकर।

Ek Do Zakhm Nahin Jism Hai Saara Chhalni,
Dard Bechara Pareshaan Hai Kahan Se Nikle.
एक दो ज़ख्म नहीं जिस्म है सारा छलनी,
दर्द बेचारा परेशान है कहाँ से निकले।

...Read More Shayaris