1. Home
  2. Sharab Shayari
  3. Nasha Shayari Jab Jaam Bhi

Nasha Shayari, Jab Jaam Bhi Chhalke

दो लाइन में हिंदी नशा शायरी

By | | Sharab Shayari
Ads by Google

Maiqade Laakh Band Karein Zamane Wale,
Shahar Mein Kam Nahi Aankho Se Pilane Wale.
मैकदे लाख बंद करें जमाने वाले,
शहर में कम नहीं आंखों से पिलाने वाले।


Apni Nashili Nigahon Ko,
Jara Jhuka Dijiye Janaab
Mere Majhab Me Nasha Haraam Hai.
अपनी नशीली निगाहों को,
जरा झुका दीजिए जनाब
मेरे मजहब में नशा हराम है।


Teri Nigaah Ne Kya Keh Diya Khuda Jane,
Ulat Kar Rakh Diye BadahKashon Ne Paimane.
तेरी निगाह ने क्या कह दिया खुदा जाने,
उलट कर रख दिये बादाकाशों ने पैमाने।


Nasha Tab Doguna Hota Hai Janaab...
Jab Jaam Bhi Chhalake Aur Aankh Bhi Chhalake.
नशा तब दोगुना होता है जनाब...
जब जाम भी छलके और आँख भी छलके।

Ads by Google
Ads by Google

Saqi Shayari Collection

Sharab Shayari, Girton Ko Thaam Le Saqi