1. Home
  2. Sharab Shayari
  3. Sharab Shayari Kahin Khaali Pyale

Sharab Shayari, Kahin Khaali Pyale Hain

Deep Meaningful Sharab Shayari in Hindi

By | | Sharab Shayari
Sharab Shayari, Kahin Khaali Pyale Hain
Ads by Google

Kahin Saagar Labalab Hain Kahin Khaali Pyale Hain,
Yeh Kaisa Daur Hai Saqi Yeh Kya Taqseem Hai Saqi.
कहीं सागर लबालब हैं कहीं खाली पियाले हैं,
यह कैसा दौर है साकी यह क्या तकसीम है साकी।


Meri Tabahi Ka iljaam Ab Sharab Par Hai,
Karta Bhi Kya Aur Tum Par Jo Aa Rahi Thi Baat.
मेरी तबाही का इल्जाम अब शराब पर है,
करता भी क्या और तुम पर जो आ रही थी बात।


Nateeja Besabab Mehfil Se Uthhwane Ka Kya Hoga,
Na Honge Hum Toh Saqi Tere Maikhane Ka Kya Hoga.
नतीजा बेसबब महफिल से उठवाने का क्या होगा,
न होंगे हम तो साकी तेरे मैखाने का क्या होगा।


Game-Duniya Mein Game-Yaar Bhi Shamil Kar Lo,
Nashaa Barhta Hai Sharabein Jo Sharabon Se Mile.
गमे-दुनिया में गमे-यार भी शामिल कर लो,
नशा बढ़ता है शराबें जो शराबों में मिलें।


Maiqade Band Karein Laakh Zamane Wale,
Shahar Mein Kam Nahi Aankho Se Pilane Wale.
मैक़दे बंद करें लाख ज़माने वाले,
शहर में कम नहीं आँखों से पिलाने वाले.


Hat Gayi Najron Se Najrein Maiqada Sa Lut Gaya,
Mil Gayi Najron Se Najrein Maikashi Hone Lagi.
हट गई नजरों से नजरें मैकदा सा लुट गया,
मिल गई नजरों से नजरें मैकशी होने लगी।

Ads by Google

Loading...

Ads by Google

Sharab Shayari, Kaise Pilayi Jati Hai

Sharab Shayari, Purani Sharab Ke Jaisi