1. Home
  2. Sharab Shayari
  3. Saqi Shayari Collection

Saqi Shayari Collection

Best Two Line Saqi Shayari in Hindi

By | 04 Mar 2016 |
Ads by Google

Dikha Ke Madbhari Aakhien Kaha Ye Saqi Ne,
Haraam Kehte Hain Jisko Yeh Woh Sharab Nahi.
दिखा के मदभरी आंखें कहा ये साकी ने,
हराम कहते हैं जिसको यह वो शराब नहीं।

Mukhatib Hain Saqi Ki Mkhmoor Najrein,
Mere Jurf Ka Imtihaan Ho Raha Hai.
मुखातिब हैं साकी की मख्मूर नजरें,
मेरे जर्फ का इम्तिहाँ हो रहा है।

Saqi Tere Nigaah Ki Kya Syahkarian Hain,
Maykhwar Hosh Mein Hai, Jahid Behak Raha Hai.
साकी तेरे निगाह की क्या सियाहकारियाँ हैं,
मैख्वार होश में हैं, जाहिद बहक रहा है।

Asar Na Poochhiye Saaki Ki Mast Aankho Ka,
Yeh Dekhiye Ki Koyi HoshMand Baaki Hai.
असर न पूछिए साकी की मस्त आंखों का,
यह देखिये कि कोई होशमंद बाकी है।

Chhalakta Bhi Rahe Humdum Rahe Labrej Bhi Saaqi,
Teri Aankon Ke Sadke Humne Woh Bhi Jaam Dekhe Hain.
छलकता भी रहे हमदम, रहे लबरेज भी साकी,
तेरी आंखों के सद्के हमने वो भी जाम देखे हैं।

Nigah-e-Mast Se Mujhko Pilaye Ja Saaqi,
Haseen Nigaah Bhi Jaam-e-Sharab Hoti Hai.
निगाहे-मस्त से मुझको पिलाये जा साकी,
हसीं निगाह भी जामे-शराब होती है।

Aaj Pee Lene De Jee Lene De Mujhko Saqi,
Kal Meri Raat Raat Khuda Jaane Kahan Gujregi.
आज पी लेने दे जी लेने दे मुझ को साक़ी,
कल मेरी रात ख़ुदा जाने कहाँ गुज़रेगी।

Mast Karna Hai Toh Khum Munh Se Laga De Saqi,
Tu Pilayega Kahan Tak Mujhe Paimaane Se.
मस्त करना है तो खुम से मुंह लगा दे साकी,
तू पिलायेगा कहाँ तक मुझे पैमाने से।

Ads by Google

Rooh Kis Mast Ki Pyasi Gayi MayKhane Se,
May Udi Jaati Hai Saqi Tere Paimaane Se.
रूह किस मस्त की प्यासी गई मयख़ाने से,
मय उड़ी जाती है साक़ी तेरे पैमाने से।

Aye Dil Tujhe Zeba Nahi Saqi Ki KhushaMad,
Maikhana Khicha Aayega Kismat Mein Agar Hai.
ऐ दिल तुझे जेबा नहीं साकी की खुशामद,
मैखाना खिंचा आयेगा किस्मत में अगर है।

Aankho Ko Bachaye The Hum Ashq-e-Shikayat Se,
Saqi Ke Tabassum Ne Chhlka Diya Paimana.
आंखों को बचाये थे हम अश्के-शिकायत से,
साकी के तबस्सुम ने छलका दिया पैमाना।

Saqi Ki Nigaahon Mein To Mulazim Na Banuga,
Tutenge Toh Tute Mere Tauba Ke Iraade.
साकी की निगाहों में तो मुलाजिम न बनूंगा,
टूटेंगे तो टूटें मेरे तौबा के इरादे।

Yeh Saqi Ne Sagar Mein Kya Cheej De Di,
Ke Tauba Huyi Paani Paani Humari.
यह साकी ने सागर में क्या चीज दे दी,
कि तौबा हुई पानी-पानी हमारी।

Mai Chalak Jaye Toh KamJarf Hain Peene Wale,
Jaam Khali Ho Toh Saqi Teri Ruswayi Hai.
मय छलक जाए तो कमजर्फ हैं पीने वाले,
जाम खाली हो तो साकी तेरी रूसवाई है।

Main Samjhta Hun Teri IshwaGiri Ko Saqi,
Kaam Karti Hai Najar Naam Paimaane Ka.
मैं समझता हूँ तेरी इशवागिरी को साकी,
काम करती है नजर नाम पैमाने का है।

Alag Baithe The Ke Aankh Saqi Ki Padi Mujh Par,
Agar Tishngi Kamil To Paimane Bhi Aayenge.
अलग बैठे थे कि आँख साकी की पड़ी मुझ पर,
अगर है तिश्नगी कामिल तो पैमाने भी आयेंगे।

Ads by Google

Sharaab Shayari, Aankhein Sharab Jaisi

Nasha Shayari, Jab Jaam Bhi Chhalke