1. Home
  2. Friendship Shayari
  3. Friendship Shayari Dosti Mein Kyun Khoya Hai

Friendship Shayari, Dosti Mein Kyun Khoya Hai

Friendship is better than Love

By | 22 Feb 2016 |
Friendship Shayari, Dosti Mein Kyun Khoya Hai
Ads by Google

Ek Raat Rab Ne Mere Dil Se Poochha,
Tu Dosti Mein Itna Kyun Khoya Hai?
Dil Bola... Doston Ne Hi Di Hai Saari Khushiyan,
Varna Pyaar Karke To Dil Hamesha Roya Hai.
एक रात रब ने मेरे दिल से पूछा,
तू दोस्ती में इतना क्यूँ खोया है?
दिल बोला दोस्तों ने ही दी हैं सारी खुशियाँ,
वरना प्यार करके तो दिल हमेशा रोया है।

Ads by Google

Socha Tha Na Karenge Kisi Se Dosti,
Aur Na Hi Karenge Kisi Se Vaada,
Par Kya Karein Dost Mila Itna Pyara,
Ke Karna Pada Dosti Ka Iraada.
सोचा था न करेंगे किसी से दोस्ती,
और न ही करेंगे किसी से वादा,
पर क्या करे दोस्त मिला इतना प्यारा,
कि करना पड़ा दोस्ती का इरादा।

Dosti Toh Insaan Ki Jarurat Hai,
Dilon Par Dosti Ki Hukoomat Hai,
Aapke Pyar Ki Wajah Se Zinda Hain,
Varna Khuda Ko Bhi Humari Jarurat Hai.
दोस्ती तो इन्सान की ज़रुरत है,
दिलों पर दोस्ती की हुकूमत है,
आपके प्यार की वजह से जिंदा हैं,
वरना खुदा को भी हमारी ज़रुरत है।

Ads by Google

Dosti Shayari, Khafa Hone Se Darte Hain

Shayari for Friend, Dost Ab Yaad Nahi Karte

loading...