1. Home
  2. Gam Bhari Shayari
  3. Gham Shayari Tere Gham Ko Zamane Se

Gham Shayari, Tere Gham Ko Zamane Se

Nice Gham Shayari from the Heart of an Inconsolable Lover

By | 01 Mar 2017 |
Ads by Google

Khushk Aankhon Se Bhi Ashqon Ki Mahek Aati Hai,
Main Tere Gham Ko Zamane Se Chhupaaun Kaise.
खुश्क आँखों से भी अश्कों की महक आती है,
मैं तेरे गम को ज़माने से छुपाऊं कैसे।

Ilaahi Unke Hisse Ka Gam Bhi Mujhko Ataa Kar De,
Ke Unki Masoom Aankhon Mein Nami Dekhi Nahi Jati.
इलाही उनके हिस्से का भी गम मुझको अता कर दे,
कि उन मासूम आँखों में नमी देखी नहीं जाती।

Ads by Google

Hai Agar Tujhko Tawakko Main Bichhad Kar GhamZada Hun,
Toh Mujhe Samjha Nahi Tu Gham Rahega Bas Iss Baat Ka.
है अगर तुझको तवक्को मैं बिछड़ कर ग़मज़दा हूँ
तो मुझे समझा नहीं तू गम रहेगा बस इस बात का।

Kya Jane Kisko Kis Se Hai Ab Daad Ki Talab,
Wah Gham Jo Mere Dil Mein Hai Teri Najar Mein Hai.
क्या जाने किसको किससे है अब दाद की तलब,
वह ग़म जो मेरे दिल में है तेरी नज़र में है।

Aaya Tha Ek Shakhs Mera Dard Baantne,
Rukhsat Hua Toh Apna Bhi Gham De Gaya Mujhe.
आया था एक शख्स मेरा दर्द बाँटने,
रुखसत हुआ तो अपना भी गम दे गया मुझे।

Ads by Google

Gham Shayari, Meri Daastan-e-Gham

Gam Shayari, Yeh Gam Ke Din

loading...