1. Home
  2. Gam Bhari Shayari
  3. Gham Shayari Tere Ishq Ka Gham

Gham Shayari, Tere Ishq Ka Gham

Simple and Heart Touching Shayari about Sorrow of Love

By | 22 Jun 2017 |
Ads by Google

TujhKo Pakar Bhi Na Kam Ho Saki Betabi Dil Ki,
Itna Aasaan Tere Ishq Ka Gham Tha Bhi Nahi.
तुझको पा कर भी न कम हो सकी बेताबी दिल की,
इतना आसान तेरे इश्क़ का ग़म था ही नहीं।

Gham Kis Ko Nahi Tujhko Bhi Hai MujhKo Bhi Hai,
Chahat Kisi Ek Ki TujhKo Bhi Hai MujhKo Bhi Hai.
ग़म किस को नहीं तुझको भी है मुझको भी है,
चाहत किसी एक की तुझको भी है मुझको भी है।

Ads by Google

Yeh Ruke Ruke Se Aansoo Yeh Dabi Dabi Si Aahein,
Yun Hi Kab Talak Khudaya Gham-e-Zindgi Nibaahein.
ये रुके रुके से आँसू ये दबी दबी सी आहें,
यूँ ही कब तलक खुदाया गमे-ज़िंदगी निबाहें।

Hadd Se Barh Jayein Talluk Toh Gham Milte Hain,
Hum Isee Vaste Ab Har Shakhs Se Kam Milte Hain.
हद से बढ़ जाये ताल्लुक तो ग़म मिलते हैं,
हम इसी वास्ते अब हर शख्स से कम मिलते हैं।

Iss Se BarhKar Dost Koi Doosra Hota Nahi,
Sab Juda Ho Jayein Lekin Gham Juda Hota Nahi.
इस से बढ़कर दोस्त कोई दूसरा होता नहीं,
सब जुदा हो जायें लेकिन ग़म जुदा होता नहीं।

Ads by Google

Gham Shayari, Dil Mein Gham Raha

loading...