1. Home
  2. Gam Bhari Shayari
  3. Gham Shayari Tere Gham Ki Hifazat

Gham Shayari, Tere Gham Ki Hifazat

Gham Shayari on Very Sad Feeling of Sorrow

By | 18 Dec 2015 |
Gham Shayari, Tere Gham Ki Hifazat
Ads by Google

Log Pad Lete Hain Aankho Se Dil Ki Baat,
Ab Mujhse Tere Gham Ki Hifazat Nahi Hoti.
लोग पढ़ लेते है आँखों से मेरे दिल की बात,
अब मुझसे तेरे गम की हिफाजत नहीं होती।

Aisa Nahi Ki Tere Baad Ahl-e-Qaram Nahi Mile,
Tujh Sa Nahi Mila Koyi Log To Kam Nahi Mile,
Ek Teri Judayi Ke Dard Ki Baat Aur Hai,
Jinko Na Sah Sake Ye Dil Aise To Gham Nahi Mile.
ऐसा नहीं के तेरे बाद अहल-ए-करम नहीं मिले,
तुझ सा नहीं मिला कोई, लोग तो कम नहीं मिले,
एक तेरी जुदाई के दर्द की बात और है,
जिनको न सह सके ये दिल, ऐसे तो गम नहीं मिले।

Ads by Google

Hume Koyi Gam Nahi Tha Gam-e-Ashiqi Se Pahle,
Na Thi Dushmani Kisi Se Teri Dosti Se Pahle,
Hai Ye Meri BadNashibi Tera Kya Kasoor Isme,
Tere Gam Ne Maar Dala Mujhe Zindgi Se Pahle.
हमें कोई ग़म नहीं था ग़म-ए-आशिक़ी से पहले,
न थी दुश्मनी किसी से तेरी दोस्ती से पहले,
है ये मेरी बदनसीबी तेरा क्या कुसूर इसमें,
तेरे ग़म ने मार डाला मुझे ज़िन्दग़ी से पहले।

Dekh Kar Usko Aksar Humein Ehsaas Hota Hai,
Kabhi Kabhi Gham Dene Wala Bahut Khaas Hota Hai,
Yeh Aur Baat Hai Woh Har Pal Nahi Hota Paas Humare,
Magar Uska Diya Gham Aksar Humare Paas Hota Hai.
देख कर उसको अक्सर हमें एहसास होता है,
कभी कभी गम देने वाला भी बहुत खास होता है,
ये और बात है वो हर पल नहीं होता पास हमारे,
मगर उसका दिया ग़म अक्सर हमारे पास होता है।

Ads by Google

Gam Shayari, Gam Ke Kisse

Hindi Gham Shayari, Gham-e-Mohabbat Ho