1. Home
  2. Hindi Shayari
  3. Aawaargi Shayari Collection

Aawaargi Shayari Collection

Best Hindi Shayari about Vagrancy (Aawargi)

By | 04 Mar 2016 |
Aawaargi Shayari Collection
Ads by Google

Sare Bajaar Niklun Toh Aawargi Ki Tohmat,
Tanhaayi Mein Baithhu Toh Ilzam-E-Mohabbat.
सरे बाज़ार निकलूं तो आवारगी की तोहमत,
तन्हाई में बैठूं तो इल्जाम-ए-मोहब्बत।

Na Shakhon Ne Di Panah, Na Hawaon Ne Bakhsha,
Woh Patta Aawara Na Banta Toh Aur Kya Karta.
ना शाखों ने पनाह दी,ना हवाओ ने बक्शा,
वो पत्ता आवारा ना बनता तो क्या करता।

Meri Aawargi Mein Kuchh Qasoor Tera Bhi Hai Sanam.
Jab Teri Yaad Aati Hai To Ghar Achha Nahi Lagta.
मेरी आवारगी में कुछ क़सूर तेरा भी है सनम,
जब तेरी याद आती है तो घर अच्छा नहीं लगता।

मैं आशिक हूँ आवारा
Kyun Meri Aawargi Pe Ungli Uthate Hain Zamane Wale,
Main Toh Aashiq Hun Dhoondhta Hun Wafa Nibhane Wale.
क्यूँ मेरी आवारगी पे ऊँगली उठाते हैं जमाने वाले,
मैं तो आशिक हूँ और ढूंढता हूँ वफ़ा निभाने वाले।

Ads by Google

Ye Ishq Toh Marz Hi Burhape Ka Hai Dosto,
Jawani Mein Fursat Hi Kahan Aawargi Se.
ये इश़्क तो मर्ज़ ही बुढ़ापे का है दोस्तो,
जवानी में फुर्सत ही कहाँ आवारगी से।

Bahut Mushkil Hai Bajaara Mijaaji,
Saleeka Chahiye Janaab Aawargi Mein.
बहुत मुश्किल है बंजारा मिजाजी,
सलीका चाहिये जनाब आवारगी में।

Ghar Se Nikal Pade Hain Awaargi Uthaa Kar,
Humko Yahi Bahut Hai Asbaab Iss Safar Mein.
घर से निकल पड़े आवारगी उठा कर,
हमको यही बहुत है असबाब इस सफ़र में।

Ads by Google

Hindi Shayari, Phool Isliye Achchhe Hain

Gareebi Par Hindi Shayari