1. Home
  2. Hindi Shayari
  3. Shama-Parwana Shayari Collection

Shama-Parwana Shayari Collection

हिंदी में शमाँ -परवाना शायरी

By | 26 Feb 2016 |
Shama-Parwana Shayari Collection
Ads by Google

Kitne Parwaane Jale Raaz Yeh Paane Ke Liye,
Shama Jalne Ke Liye Hai Ya Jalaane Ke Liye.
कितने परवाने जले राज़ ये पाने के लिए,
शमां जलने के लिए हैं या जलाने के लिए।

Kisi Ko Pyar Ka Matlab Bas Itna Sa Samjhana,
Shama Ke Paas Jakar Ke Parwane Ka Jal Jana.
किसी को प्यार का मतलब बस इतना सा समझाना,
शमा के पास जाकर के परवाने का जल जाना।

Shama Bujha Ke Raat Der Talak Mehfil Sajai Humne,
Main Apne Dil Ko Rota Raha Aur Yeh Dil Tere Liye.
शमा बुझा के रात देर तलक महफ़िल सजाई हमने,
मैं अपने दिल को रोता रहा और ये दिल तेरे लिए।

Garmi-e-Shama Ka Afsaana Sunaane Walo,
Raqs Dekha Nahi Tumne Abhi Parwane Ka.
गर्मी-ए-शम्मा का अफसाना सुनाने वालो,
रक्स देखा नहीं तुमने अभी परवाने का।

Ho Gaya Dher Wahin Aah Bhi Nikli Na Koi,
Jaane Kya Baat Kahi Shama Ne Parwane Se.
हो गया ढेर वहीं आह भी निकली न कोई,
जाने क्या बात कहीं शमाँ ने परवाने से।

Hai Shiddat-e-Khulus Bhi Ik Jurm-e-Aashiqi,
Parwana Jal Ke Shama Ko Badnaam Kar Gaya.
है शिद्दत-ए-खुलूस भी इक जुर्मे-आशिकी,
परवाना जल के शमाँ को बदनाम कर गया।

Rukh-e-Roshan Ke Aage Shama Rakhkar Wo Yeh Kahte Hain,
Udhar Jata Hai Dekhein Ya Idhar Aata Hai Parwana.
रूख-ए-रौशन के आगे शमाँ रखकर वो ये कहते है,
उधर जाता है देखें या इधर आता है परवाना।

Ads by Google

Yeh Kahke Aakhire-Shab Shama Ho Gayi Khamosh,
Kisi Ki Zindgi Lene Se Zindgi Na Mili.
यह कहके आखिरे-शब शमाँ हो गई खामोश,
किसी की जिंदगी लेने से जिंदगी न मिली।

Fanaa Hone Se Soj-e-Shama Ki MinnatKashi Kaisi,
Jale Jo Aag Mein Apni Use Parwana Kahte Hain.
फना होने में सोज-ए-शमाँ की मिन्नतकशी कैसी,
जले जो आग में अपनी उसे परवाना कहते हैं।

Ishq Kya Cheej Hai Yeh Puchhiye Parwane Se,
Zindgi Jisko Mayassar Huyi Mar Jaane Ke Baad.
इश्क क्या चीज है यह पूछिये परवाने से,
जिंदगी जिसको मयस्सर हुई मर जाने के बाद।

Aashiqo Mein Aur Uska Naam Roshan Ho Gaya,
Shama Ne Socha Tha Mit Jayega Parwane Ka Naam.
आशिकों में और उसका नाम रौशन हो गया,
शमाँ ने सोचा था मिट जायेगा परवाने का नाम।

Bin Jale Shama Ke Parwana Jal Nahi Sakta,
Kya Kare Ishq Agar Husn Ki Sabkat Na Kare.
बिन जले शमा के परवाना जल नहीं सकता,
क्या करे इश्क अगर हुस्न की सबकत न करे।

Jo Kismat Mein Jalna Hi Tha Toh Shama Hote,
Ke Puchhe Toh Jaate Kisi Anjuman Mein Hum.
जो किस्मत में जलना ही था तो शमा होते,
कि पूछे तो जाते किसी अंजुमन में हम।

Shayari about Shama Jalti Rahi
Jo Jalata Hai KisiKo Khud Bhi Jalta Hai Jaroor,
Shamma Bhi Jalti Rahi Parwana Jal Jaane Ke Baad.
जो जलाता है किसी को खुद भी जलता है जरूर,
शम्मा भी जलती रही परवाना जल जाने के बाद।

Khud Bhi Jalti Hai Agar Usko Jalati Hai Yeh,
Kam Kisi Tarah Nahi Shamma Bhi Parwaane Se.
खुद भी जलती है अगर उस को जलाती है ये,
कम किसी तरह नहीं शम्मा भी परवाने से।

BeSabab Ishq Mein Marna Toh Mujhe Manzoor Nahi,
Shamaa Toh Chaah Rahi Hai Ki Parwana Ho Jaaun.
बेसबब इश्क़ में मरना तो मुझे मंज़ूर नहीं,
शमा तो चाह रही है कि परवाना हो जाऊँ।

Ads by Google

Hontho Pe Sajana Chahata Hu

GumNaam Rahein To Achchha Hai