1. Home
  2. Intezaar Shayari
  3. Intezar Shayari Intezaar Hai Saath Sahara Bankar

Intezar Shayari, Intezaar Hai Saath Sahara Bankar

हिंदी में नई इंतजार शायरी

By | 20 Jan 2016 |
Intezar Shayari, Intezaar Hai Saath Sahara Bankar
Ads by Google

Koyi Milta Nahi Hum Se Humara Bankar,
Woh Mile Bhi Toh Ek Kinara Bankar,
Har Khwaab Toot Ke Bikhra Kaanch Ki Tarah,
Bas Ek Intezaar Hai Saath Sahara Bankar.
कोई मिलता ही नहीं हमसे हमारा बनकर,
वो मिले भी तो एक किनारा बनकर,
हर ख्वाब टूट के बिखरा काँच की तरह,
बस एक इंतज़ार है साथ सहारा बनकर।

Ads by Google

Koyi Shaam Aati Hai Aapki Yaad Lekar,
Koyi Shaam Jati Hai Aapki Yaad Lekar,
Hamein Toh Intezaar Hai Uss Haseen Shaam Ka,
Jo Aaye Kabhi Aapko Apne Saath Lekar.
कोई शाम आती है आपकी याद लेकर,
कोई शाम जाती है आपकी याद देकर,
हमें तो इंतज़ार है उस हसीन शाम का,
जो आये कभी आपको अपने साथ लेकर।

Toot Gaya Dil Par Armaan Wahi Hai,
Doorr Rehte Hain Fir Bhi Pyaar Wahi Hai,
Jaante Hain Ke Mil Nahi Payenge,
Fir Bhi Inn Aankho Mein Intzaar Wahi Hai.
टूट गया दिल पर अरमां वही है,
दूर रहते हैं फिर भी प्यार वही है,
जानते हैं कि मिल नहीं पायेंगे,
फिर भी इन आँखों में इंतज़ार वही है।

Ads by Google

Intezaar Shayari, Tera Intezar Lazim Hai

Intezaar Shayari, Intezar Har Sham Tera