1. Home
  2. Intezaar Shayari
  3. Intezaar Shayari Main Raah Dekhta Raha

Intezaar Shayari, Main Raah Dekhta Raha

Hindi Poetry on Waiting eagerly

By | 05 Dec 2016 |
Ads by Google

Tamaam Raat Mere Ghar Ka Ek Dar Khula Raha,
Main Raah Dekhta Raha Woh Rasta Badal Gaya.
तमाम रात मेरे घर का एक दर खुला रहा,
मैं राह देखता रहा वो रास्ता बदल गया।

Kabhi Toh Chaunk Ke Dekhe Koi Humari Taraf,
Kisi Ki Aankh Mein Humko Bhi Intezar Dikhe.
कभी तो चौंक के देखे कोई हमारी तरफ़,
किसी की आँख में हमको भी इंतज़ार दिखे।

Ads by Google

Jo Teri Muntzir Thi Woh Aankhein Hi Bujh Gayin,
Ab Kyun Saja Raha Hai Chiragon Se Shaam Ko.
जो तेरी मुंतज़िर थीं वो आँखें ही बुझ गई,
अब क्यों सजा रहा है चिरागों से शाम को।

Kuchh Roj Yeh Bhi Rang Raha Tere Intezaar Ka,
Aankh Uthh Gayi Jidhar Bas Udhar Dekhte Rahe.
कुछ रोज़ यह भी रंग रहा तेरे इंतज़ार का,
आँख उठ गई जिधर बस उधर देखते रहे।

Muddat Se Khwab Mein Bhi Nahi Neend Ka Khyaal,
Hairat Mein Hun Yeh Mujhe Kis Ka Intezar Hai.
मुद्दत से ख्वाब में भी नहीं नींद का ख्याल,
हैरत में हूँ ये किस का मुझे इंतज़ार है।

Ads by Google

Intezaar Shayari, Jagte Rehne Ka Sila

Intezaar Shayari, Intezaar Tere Laut Aane Ka