1. Home
  2. Intezaar Shayari
  3. Intezaar Shayari Umr Kati Intezaar Mein

Intezaar Shayari, Umr Kati Intezaar Mein

Heart Touching Shayaris on the Moments of Waiting of Someone Special

By | 06 May 2016 |
Intezaar Shayari, Umr Kati Intezaar Mein
Ads by Google

Meri Ik Umr Kat Gayi Tere Intezaar Mein,
Aise Bhi Hain Ki Kat Na Saki Jinse Ek Raat.
मेरी इक उमर कट गई है तेरे इंतजार में,
ऐसे भी हैं कि कट न सकी जिनसे एक रात।

Ab Teri Mohabbat Pe Mera Haq To Nahi Sanam,
Phir Bhi Aakhiri Saans Tak Tera Intezaar Karenge.
अब तेरी मोहब्बत पर मेरा हक तो नहीं सनम,
फिर भी आखिरी साँस तक तेरा इंतजार करेंगे।

Unki Marji Ho Toh Baat Karte Hain Aur Ek Hum Hain,
Jo Har Waqt Unki Marji Ka Intezaar Karte Hain.
उनकी मर्जी हो तो बात करते है और एक हम हैं,
जो हर वक़्त उनकी मर्जी का ही इंतज़ार करते हैं।

Ads by Google

Din Bhar Bhatakte Rahte Hain Armaan Tujhse Milne Ke,
Na Yeh Dil Thehrta Hai Na Tera Intezaar Rukta Hai.
दिन भर भटकते रहते हैं अरमान तुझसे मिलने के,
न ये दिल ठहरता है न तेरा इंतज़ार रुकता है।

Umr-e-Daraaz Maang Ke Laaye The Chaar Din,
Do Aarzoo Mein Kat Gaye Do Intezaar Mein.
उम्र-ए-दराज माँग कर लाये थे चार दिन,
दो आरज़ू में कट गए दो इंतज़ार में।

Na Jane Kab Ka Pahunch Bhi Chuka Sar-e-Manzil,
Woh Shakhs Jis Ka Humein Intazar Raah Mein Hai.
न जाने कब का पहुँच भी चुका सर-ए-मंजिल,
वो शख्स जिस का हमें इंतज़ार राह में है।

Ads by Google

Intezaar Shayari, Apna Hi Intezar Kiya

Intezaar Shayari, Tera Intezaar Kya Karte