1. Home
  2. Shayari On Life
  3. Zindgi Shayari Khel Rahi Hai Zindagi

Zindgi Shayari, Khel Rahi Hai Zindagi

Shayari about Sad Life in Hindi Two Lines

By | 06 May 2016 |
Zindgi Shayari, Khel Rahi Hai Zindagi
Ads by Google

ShatRanj Khel Rahi Hai Meri Zindagi Kuchh Iss Tarah,
Kabhi Teri Mohabbat Maat Deti Hai Kabhi Meri Kismat.
‪‎शतरंज‬ खेल रही है मेरी ‪जिंदगी‬ कुछ इस तरह,
कभी तेरी मोहब्बत मात देती है कभी मेरी ‪किस्मत‬।

Jo Lamha Saath Hai Use Jee Bhar Ke Jee Lena,
Yeh Kambakht Zindagi Bharose Ke Kabil Nahi Hai.
जो लम्हा साथ है उसे जी भर के जी लेना,
ये कम्बख्त जिंदगी भरोसे के काबिल नहीं है।

Ads by Google

Mujh Se Naaraaj Hai Toh Chhod De Tanha Mujhko,
Aye Zindagi Mujhe Roz Roz Tamasha Na Banaya Kar.
मुझ से नाराज़ है तो छोड़ दे तन्हा मुझको,
ऐ ज़िन्दगी मुझे रोज़ रोज़ तमाशा न बनाया कर।

Roj Dil Mein Hasraton Ko Jalta Dekh Kar,
Thak Chuka Hun Zindagi Ka Ye Ravaiya Dekh Kar.
रोज़ दिल में हसरतों को जलता देख कर,
थक चुका हूँ ज़िंदगी का ये रवैया देख कर।

Jahan Jahan Koi Thhokar Hai Meri Kismat Mein,
Wahin Wahin Liye Firti Hai Meri Zindagi Mujhko.
जहाँ जहाँ कोई ठोकर है मेरी किस्मत में,
वहीं वहीं लिए फिरती है मेरी ज़िन्दगी मुझको।

Ads by Google

Shayari on Life, Zindgi Se Puchhiye

Shayari on Life, Kashmkash-e-Zindgi