Hindi Shayari on Life

Shayari on Life, Zindgi Itna Bata

Sad Two Liner Sher-o-Shayaris about Life

Shayari on Life, Zindgi Itna Bata

Chhod Yeh Baat Ke Mile Zakhm Kahan Se Mujhko,
Zindagi Itna Bata Kitna Safar Baaki Hai.
छोड़ ये बात कि मिले ज़ख़्म कहाँ से मुझको,
ज़िन्दगी इतना बता कितना सफर बाकी है।


Dekha Hai Zindagi Ko Kuchh Itna Kareeb Se,
Chehre Tamaam Lagne Lage Hain Ab Toh Ajeeb Se.
देखा है ज़िन्दगी को कुछ इतना करीब से,
चेहरे तमाम लगने लगे हैं अब तो अजीब से।

...Read More Shayaris
Ads by Google

Shayari on Life, Zindgi Se Puchhiye

Nice Shayari about Life in Hindi

Zindgi Se Puchhiye Yeh Kya Chahti Hai,
Bas Ek Aapki Wafa Chahti Hai,
Kitni Masoom Aur Nadaan Hai Yeh,
Khud Bewafa Hai Aur Wafa Chahti Hai.
ज़िन्दगी से पूछिये ये क्या चाहती है,
बस एक आपकी वफ़ा चाहती है,
कितनी मासूम और नादान है ये,
खुद बेवफा है और वफ़ा चाहती है।

...Read More Shayaris
Ads by Google

Zindgi Shayari, Khel Rahi Hai Zindagi

Very Sad Shayaris about Life in Hindi Two Lines

ShatRanj Khel Rahi Hai Meri Zindagi Kuchh Iss Tarah,
Kabhi Teri Mohabbat Maat Deti Hai Kabhi Meri Kismat.
‪‎शतरंज‬ खेल रही है मेरी ‪जिंदगी‬ कुछ इस तरह,
कभी तेरी मोहब्बत मात देती है कभी मेरी ‪किस्मत‬।


Jo Lamha Saath Hai Use Jee Bhar Ke Jee Lena,
Yeh Kambakht Zindagi Bharose Ke Kabil Nahi Hai.
जो लम्हा साथ है उसे जी भर के जी लेना,
ये कम्बख्त जिंदगी भरोसे के काबिल नहीं है।

...Read More Shayaris

Shayari on Life, Kashmkash-e-Zindgi

Nice Shayari about Dilemma of Life

Tang Aa Chuke Hain Kashmkash-e-Zindgi Se Hum,
Thukra Na Dein Jahan Ko Kahin De-Dili Se Hum.
Lo Aaj Humne Chhod Diya Rishta-e-Ummid,
Lo Ab Kabhi Kisi Se Gila Na Karenge Hum,
Gar Zindgi Mein Mil Gaye Ittefak Se,
Puchhenge Apna Haal Teri Bebasi Hum.

तंग आ चुके हैं कशमकश-ए-ज़िंदगी से हम,
ठुकरा न दें जहाँ को कहीं बे-दिली से हम,
लो आज हमने छोड़ दिया रिश्ता ए उमीद,

...Read More Shayaris
Ads by Google

Shayari on Life, Zindgi Tu Hi Bata

Very Sad Shayari about Life by a Broken Heart Lover.

Ab Toh Apni Tabiyat Bhi Juda Lagti Hai,
Saans Leta Hun Toh Zakhmo Ko Hawa Lagti Hai,
Kabhi Razi Toh Kabhi Mujse Khafa Lagti Hai,
Zindgi Tu Hi Bata Tu Meri Kya Lagti Hai.
अब तो अपनी तबियत भी जुदा लगती है,
सांस लेता हूँ तो ज़ख्मों को हवा लगती है,
कभी राजी तो कभी मुझसे खफा लगती है,
जिंदगी तू ही बता तू मेरी क्या लगती है।

...Read More Shayaris
Loading...
Loading...