Love Shayari, Kya Haseen Ittefaq Tha

Loving Sentiments for Sweet Lover

Advertisement

Love Shayari, Kya Haseen Ittefaq Tha

Kya Haseen Ittefaq Tha Teri Gali Mein Aane Ka,
Kisi Kaam Se Aaye The Aur Kisi Kaam Ke Na Rahe.
क्या हसीन इत्तेफाक़ था तेरी गली में आने का,
किसी काम से आये थे और किसी काम के ना रहे।

Aaye Ho Aankhon Mein Toh Kuchh Der Toh Thehar Jao,
Ek Umr Lag Jaati Hai Ek Khwaab Sajaane Mein.
आये हो आँखों में तो कुछ देर तो ठहर जाओ,
एक उम्र लग जाती है एक ख्वाब सजाने में।

Advertisement

Subhah UthTe Hi Tere Jism Ki Khushboo Aayi,
Shayad Raat Bhar Tu Ne Mujhe Khwaab Mein Dekha Hai.
सुबह उठते ही तेरे जिस्म की खुशबू आई,
शायद रात भर तूने मुझे ख्वाब में देखा है।

Use Hum Chhod De Lekin Bas Ik Chhoti Si Uljhan Hai,
Suna Hai Dil Se Dharkan Ki Judai Maut Hoti Hai.
उसे हम छोड़ दें लेकिन बस इक छोटी सी उलझन हैं,
सुना है दिल से धड़कन की जुदाई मौत होती है।

Munasib Samjho Toh Sirf Itna Hi Bata Do,
Dil Bechain Hai Bahut, Kahin Tum Udaas Toh Nahi.
मुनासिब समझो तो सिर्फ इतना ही बता दो,
दिल बैचैन है बहुत, कहीं तुम उदास तो नहीं।

Mila Wo Lutf HumKo DoobKar Tere Khayalon Mein,
Kahan Ab Farq Baaki Hai Andhere Aur Ujaalon Mein.
मिला वो लुत्फ हमको डूब कर तेरे ख्यालों में
कहाँ अब फर्क बाकी है अंधेरे और उजालों में।

Advertisement

Love Shayari, Khwabon Ke Ghar Mein

Love Shayari, Maasum Kharidaar Se Kya Lena

You may also like