1. Home
  2. Love Shayari
  3. Mir Love Shayari Collection

Mir Love Shayari Collection

मीर तकी मीर की प्यार भरी शायरी

By | | Love Shayari
Mir Love Shayari Collection
Ads by Google

Ibteda-e-Ishq Hai Rota Hai Kya,
Aage Aage Dekhiye Hota Hai Kya.
इब्तिदा-ए-इश्क़ है रोता है क्या,
आगे आगे देखिए होता है क्या।


Ishq Ik Mir Bhari Patthar Hai,
Kab Yeh Tujh Na-Tawan Se UthhTa Hai.
इश्क़ इक मीर भारी पत्थर है,
कब ये तुझ ना-तवाँ से उठता है।
(ना-तवाँ - कमजोर)


Ishq Mein Jee Ko Sabr-Taab Kahan,
Uss Se Aankhein Ladi Toh Khwab Kahan.
इश्क़ में जी को सब्र-ताब कहाँ,
उस से आँखें लड़ीं तो ख़्वाब कहाँ।


Kaya Kahun Tumse Main Ke Kya Hai Ishq,
Jaan Ka Rog Hai Balaa Hai Ishq.
क्या कहूँ तुम से मैं कि क्या है इश्क़,
जान का रोग है बला है इश्क़।


Yaad Uss Ki Itni Khoob Nahi Mir Baaz Aa,
Nadaan Phir Wo Jee Se Bhulaya Na Jayega.
याद उस की इतनी ख़ूब नहीं मीर बाज़ आ,
नादान फिर वो जी से भुलाया न जाएगा।


Ab Kar Ke Faramosh Toh Nashaad Karoge,
Par Hum Jo Na Honge Toh Bahut Yaad Karoge.
अब कर के फ़रामोश तो नाशाद करोगे
पर हम जो न होंगे तो बहुत याद करोगे।


Jin-Jin Ko Tha Yeh Ishq Ka Aazaar Mar Gaye,
Aksar Humare Saath Ke Beemar Mar Gaye.
जिन जिन को था ये इश्क़ का आज़ार मर गए,
अक्सर हमारे साथ के बीमार मर गए।


Hoga Kisi Deewar Ke Saaye Mein Pada Mir,
Kya Kaam Mohabbat Se Uss Aaram-Talab Ko.
होगा किसी दीवार के साए में पड़ा मीर,
क्या काम मोहब्बत से उस आराम-तलब को।

Ads by Google
Ads by Google

Faiz Love Shayari Collection

Allama Iqbal Love Shayari Collection