Love Shayari

Faiz Love Shayari Collection

फैज़ अहमद फैज़ की प्यार भरी शायरी

Faiz Love Shayari Collection

Agar Sharar Hai Toh Bhadke Jo Phool Hai Toh Khile,
Tarah Tarah Ki Talab Tere Rang-e-Lab Se Hai.
अगर शरर है तो भड़के जो फूल है तो खिले,
तरह तरह की तलब तेरे रंग-ए-लब से है।


Laut Jaati Hai Udhar Ko Bhi Najar Kya Keeje,
Ab Bhi DilKash Hai Tera Husn Magar Kya Keeje.
लौट जाती है उधर को भी नज़र क्या कीजे,
अब भी दिलकश है तेरा हुस्न मगर क्या कीजे।

...Read More Shayaris
Ads by Google

Mir Love Shayari Collection

मीर तकी मीर की प्यार भरी शायरी

Mir Love Shayari Collection

Ibteda-e-Ishq Hai Rota Hai Kya,
Aage Aage Dekhiye Hota Hai Kya.
इब्तिदा-ए-इश्क़ है रोता है क्या,
आगे आगे देखिए होता है क्या।


Ishq Ik Mir Bhari Patthar Hai,
Kab Yeh Tujh Na-Tawan Se UthhTa Hai.
इश्क़ इक मीर भारी पत्थर है,
कब ये तुझ ना-तवाँ से उठता है।

...Read More Shayaris
Ads by Google

Allama Iqbal Love Shayari Collection

अल्लामा इकबाल की प्यार भरी शायरी

Allama Iqbal Love Shayari Collection

Ishq Bhi Ho Hijaab Mein Husn Bhi Ho Hijaab Mein,
Yaa Toh Khud Aashkaar Ho Ya Mujhe Aashkaar Kar.
इश्क़ भी हो हिजाब में हुस्न भी हो हिजाब में,
या तो ख़ुद आश्कार हो या मुझे आश्कार कर।


Ishq Teri Intehaan Ishq Meri Intehaan,
Tu Bhi Abhi Na-Tamaam Main Bhi Abhi Na-Tamaam.
इश्क़ तेरी इन्तेहाँ इश्क़ मेरी इन्तेहाँ,
तू भी अभी ना-तमाम मैं भी अभी ना-तमाम।

...Read More Shayaris

Love Shayari, Khwabon Ke Ghar Mein

Beautiful Hindi Love Poetry about House of Dreams

Love Shayari, Khwabon Ke Ghar Mein

Nahi Jo Dil Mein Jagah Toh Najar Mein Rehne Do,
Meri Hayaat Ko Tum Apne Asar Mein Rehne Do,
Main Apni Soch Ko Teri Gali Mein Chhod Aaya Hun,
Mere Wajood Ko Khwabon Ke Ghar Mein Rehne Do.
नहीं जो दिल में जगह तो नजर में रहने दो,
मेरी हयात को तुम अपने असर में रहने दो,
मैं अपनी सोच को तेरी गली में छोड़ आया हूँ,
मेरे वजूद को ख़्वाबों के घर में रहने दो।

...Read More Shayaris
Ads by Google

Love Shayari, Kya Haseen Ittefaq Tha

Loving Sentiments for Sweet Lover

Love Shayari, Kya Haseen Ittefaq Tha

Kya Haseen Ittefaq Tha Teri Gali Mein Aane Ka,
Kisi Kaam Se Aaye The Aur Kisi Kaam Ke Na Rahe.
क्या हसीन इत्तेफाक़ था तेरी गली में आने का,
किसी काम से आये थे और किसी काम के ना रहे।


Aaye Ho Aankhon Mein Toh Kuchh Der Toh Thehar Jao,
Ek Umr Lag Jaati Hai Ek Khwaab Sajaane Mein.
आये हो आँखों में तो कुछ देर तो ठहर जाओ,
एक उम्र लग जाती है एक ख्वाब सजाने में।

...Read More Shayaris
Loading...
Loading...