1. Home
  2. Sad Shayari
  3. Sad Shayari Adhure Ishq Ki Muqammal Yaad

Sad Shayari, Adhure Ishq Ki Muqammal Yaad

New Sad Shayari on Incomplete Love

By | 27 Mar 2016 |
Sad Shayari, Adhure Ishq Ki Muqammal Yaad
Ads by Google

Khatm Ho Gayi Kahani Bas Kuchh Alfaz Baaki Hain,
Ek Adhure Ishq Ki Ek Muqammal Si Yaad Baki Hai.
ख़त्म हो गई कहानी बस कुछ अलफाज बाकी हैं,
एक अधूरे इश्क की एक मुकम्मल सी याद बाकी है।

Bahut The Mere Bhi Iss Duniya Mein Apne,
Phir Hua Ishq Aur Hum Lawarish Ho Gaye.
बहुत थे मेरे भी इस दुनिया मेँ अपने,
फिर हुआ इश्क और हम लावारिस हो गए।

Tumhein Chahne Ki Wajah Kuchh Bhi Nahi,
Bas Ishq Ki Fitrat Hai Be-Wajah Hona.
तुम्हें चाहने की वजह कुछ भी नहीं,
बस इश्क की फितरत है बे-वजह होना।

Ads by Google

Ishq Mein Isliye Bhi Dhokha Khane Lage Hain Log,
Dil Ki Jagah Jism Ko Chahne Lage Hain Log.
इश्क में इसलिए भी धोखा खाने लगे हैं लोग
दिल की जगह जिस्म को चाहने लगे हैं लोग।

Kab Doge Rihayi Mujhe Inn Yaadon Ki Qaid Se,
Aye Ishq Apne Zulm Dekh Aur Meri Umr Dekh.
कब दोगे रिहाई मुझे इन यादों की कैद से,
ऐ इश्क अपने जुल्म देख मेरी उम्र देख।

Waah Re Ishq Teri Masumiyat Ka Jawab Nahi,
Hansa Kar Karta Hai Barbad Tu Masoom Logon Ko.
वाह रे इश्क़ तेरी मासूमियत का जवाव नहीं,
हँसा कर करता है बर्बाद तू मासूम लोगो को।

Ads by Google

Sad Shayari, Pyaar Bekhabar Tujhse Kiya

Sad Shayari, Silsila Ulfat Ka