1. Home
  2. Sad Shayari
  3. Faiz Sad Shayari Collection

Faiz Sad Shayari Collection

फैज़ अहमद फैज़ की दर्द भरी शायरी

By | 05 Jul 2016 |
Faiz Sad Shayari Collection
Ads by Google

Na Gul Khile Hain Na Unse Mile Na May Pee Hai,
Ajeeb Rang Mein Ab Ke Bahaar Gujari Hai.
न गुल खिले हैं न उन से मिले न मय पी है,
अजीब रंग में अब के बहार गुज़री है।

Juda The Hum To Mayassar Thi Qurbatein Kitni,
Baham Huye Toh Padi Hai Judaayian Kya Kya.
जुदा थे हम तो मयस्सर थीं क़ुर्बतें कितनी,
बहम हुए तो पड़ी हैं जुदाइयाँ क्या क्या।

Aaye Kuchh Abr Kuchh Sharaab Aaye,
Iss Ke Baad Aaye Jo Ajaab Aaye.
आए कुछ अब्र कुछ शराब आए,
इस के बाद आए जो अज़ाब आए।

Aaye Toh Yun Ki Jaise Hamesha The Meharbaan,
Bhoole Toh Yun Ki Goya Kabhi Aashna Na The.
आए तो यूँ कि जैसे हमेशा थे मेहरबान,
भूले तो यूँ कि गोया कभी आश्ना न थे।

Tumhaari Yaad Ke Jab Zakhm Bharne Lagte Hain,
Kisi Bahaane Tumhein Yaad Karne Lagte Hain.
तुम्हारी याद के जब ज़ख़्म भरने लगते हैं,
किसी बहाने तुम्हें याद करने लगते हैं।

Tej Hai Aaj Dard-e-Dil Saqi,
Talkhi-e-May Ko Tej-Tar Kar De.
तेज़ है आज दर्द-ए-दिल साक़ी,
तल्ख़ी-ए-मय को तेज़-तर कर दे।

Ads by Google

Duniya Ne Teri Yaad Se Begana Kar Diya,
Tumse Bhi DilFareb Hain Gham Rojgaar Ke.
दुनिया ने तेरी याद से बेगाना कर दिया,
तुमसे भी दिलफरेब हैं गम रोजगार के।

Aur Bhi Gam Hain Zamane Mein Mohabbat Ke Siway,
Raahtein Aur Bhi Hain Vasl Ki Rahat Ki Siway.
और भी गम है जमाने में मुहब्बत के सिवाय,
राहतें और भी है वस्ल की राहत के सिवाय,

Dono Jahan Teri Mohabbat Mein Haar Ke,
Woh Jaa Raha Hai Koi Shab-e-Gham Gujaar Ke.
दोनों जहान तेरी मोहब्बत में हार के
वो जा रहा है कोई शब-ए-ग़म गुज़ार के।

Kab Thehrega Dard Ai Dil Kab Raat Basar Hogi,
Sunte The Ki Wo Aayenge Sunte The Sahar Hogi.
कब ठहरेगा दर्द ऐ दिल कब रात बसर होगी,
सुनते थे कि वो आयेंगे सुनते थे सुबह होगी।

Kahan Tak Sunegi Raat Kahan Tak Sunayenge Hum,
Shiqwe Sare-Shab Aaj Tere Rubaru Karein.
कहाँ तक सुनेगी रात कहाँ तक सुनायेंगे हम,
शिकवे सरे-शब आज तेरे रूबरू करें।

Jab Tujhe Yaad Kar Liya Subah Mahek Mahek Uthhi,
Jab Tera Gham Jagaa Liya Raat Machal Machal Gayi.
जब तुझे याद कर लिया सुब्ह महक महक उठी,
जब तिरा ग़म जगा लिया रात मचल मचल गई।

Ads by Google

Mir Sad Shayari Collection

Sad Shayari, Woh Bajaar Mein Bik Gaye

Loading...
Loading...