1. Home
  2. Sad Shayari
  3. Sad Shayari Mohabbat Mein Zeher

Sad Shayari, Mohabbat Mein Zeher

True Sad Shayaris in Hindi 2 Lines

By | 09 Jun 2016 |
Sad Shayari, Mohabbat Mein Zeher
Ads by Google

Karna Hi Tanz Hai Toh Hansne Ka Kya Takalluf,
Kyun Zeher De Rahe Ho Mohabbat Mila Mila Kar.
करना ही तंज़ है तो हंसने का क्या तकल्लुफ,
क्यूँ ज़हर दे रहे हो मोहब्बत मिला मिला कर।

Na Sar-e-Bazar Dekhunga Na Usko Tanha Sochunga,
Usey Kehna Ke Laut Aaye Mohabbat Chhod Di Maine.
न सर-ए-बाजार देखूँगा न उसको तन्हा सोचूंगा,
उसे कहना कि लौट आये मोहब्बत छोड़ दी मैंने।

Najar-Andaz Karte Ho Lo Hat Jate Hain Nazron Se,
Inhi Najron Se Dhundhoge Najar Jab Hum Na Aayenge.
नजर-अंदाज़ करते हो लो हट जाते हैं नजरों से,
इन्हीं नजरों से ढूंढोगे नजर जब हम न आयेंगे।

Ads by Google

Chehron Mein Dusron Ke Tujhe Dhundhte Rahe,
Kahin Surat Nahi Mili Kahin Seerat Nahin Mili.
चेहरों में दूसरों के तुझे ढूंढते रहे,
कहीं सूरत नहीं मिली कहीं सीरत नहीं मिली।

Bichhad Ke Uss Se Pareshan Bahut Hoon Main,
Suna Hai Woh Bhi Badi Uljhano Mein Rehte Hain.
बिछड़ के उस से परेशान बहुत हूँ मैं,
सुना है वो भी बड़ी उलझनों में रहता है।

Main Bikhar Jaunga Zanjeer Ki Kadiyon Ki Tarah,
Aur Reh Jayegi Iss Dasht Mein Jhankar Meri.
मैं बिखर जाऊंगा ज़ंजीर की कड़ियों की तरह,
और रह जाएगी इस दश्त में झंकार मेरी।

Tera Saath Chhuta Hai Sambhalne Mein Waqt Toh Lagega,
Har Cheej Ishq Toh Nahi Jo Ek Pal Mein Ho Jaye.
तेरा साथ छूटा है सँभलने में वक्त तो लगेगा,
हर चीज़ इश्क़ तो नहीं जो एक पल में हो जाये।

Ads by Google

Sad Shayari, Yaar Ne Inayat Nahi Ki

Sad Shayari, Wohi Shakhs Humara Nahi