1. Home
  2. Sad Shayari
  3. Sad Shayari on Naseeb

Sad Shayari on Naseeb

Sad Shayari Collection on Luck, Destiny. Hindi and English Font.

By | | Sad Shayari
Ads by Google

Mujhe Tujhse Koyi Shikwa Ya Shikayat Nahi,
Shayad Mere Naseeb Mein Teri Chahat Nahi,
Meri Takdir Likh Kar Khuda Bhi Muqar Gaya,
Maine Puchha Toh Bola Yeh Meri Likhawat Nahi.
मुझे तुझसे कोई शिकवा या शिकायत नहीं,
शायद मेरे नसीब में तेरी चाहत नहीं है,
मेरी तकदीर लिखकर खुदा भी मुकर गया,
मैंने पूछा तो बोला ये मेरी लिखावट नहीं है।


Dil Ameer Tha Magar Muqadar Gareeb Tha,
Mil Kar Bichhadna Toh Humara Naseeb Tha,
Hum Chaah Kar Bhi Kuchh Kar Na Sake,
Ghar Jalta Raha Aur Samundar Qareeb Tha.
दिल अमीर था मगर मुकद्दर गरीब था,
मिलकर बिछड़ना तो हमारा नसीब था,
हम चाह कर भी कुछ कर न सके,
घर जलता रहा और समंदर करीब था।


Naseeb Ban Kar Koyi Zindagi Mein Aata Hai,
Phir Khawab Ban Kar Aankhon Mein Sama Jata Hai,
Yakeen Dilata Hai Ki Woh Hamara Hi Hai,
Phir Na Jane Kyun Waqt Ke Sath Badal Jata Hai.
नसीब बनकर कोई जिंदगी में आता है,
फिर ख्वाब बनकर आँखों में समा जाता है,
यकीन दिलाता है कि वो हमारा ही है,
फिर न जाने क्यूँ वक़्त के साथ बदल जाता है।


Agar Yakeen Hota Ki Kahne Se Ruk Jaayenge,
Toh Hum Bhi Hanskar Unko Pukaar Lete,
Magar Naseeb Ko Mere Yeh Manjoor Nahi Tha,
Ki Hum Bhi Do Pal Khushi Se Gujar Lete.
अगर यकीन होता कि कहने से रुक जायेंगे,
तो हम भी हंसकर उनको पुकार लेते,
मगर नसीब को मेरे ये मंजूर नहीं था,
कि हम भी दो पल ख़ुशी के गुजार लेते।


Unn Galiyon Se Jab Gujre Toh Manzar Ajeeb Tha,
Dard Tha Magar Woh Dil Ke Bahut Kareeb Tha,
Jise Hum Dhoondhte The Apni Haatho Ki Lakeeron Mein,
Woh Kisi Doosare Ki Kismat Kisi Aur Ka Naseeb Tha.
उन गलियों से जब गुज़रे तो मंज़र अजीब था,
दर्द था मगर वो दिल के बहुत करीब था,
जिसे हम ढूँढ़ते थे अपनी हाथों की लकीरों में,
वो किसी दूसरे की किस्मत किसी और का नसीब था।


Jaise Julfon Ki Lat Hai Chehre Ke Karib Tere,
Kaash Hum Bhi Aaj Tere Itne Karib Hote,
Tere Phoolon Se Chehre Ko Hardam Niharte Hum,
Kaash Aisi Hoti Kismat Aise Naseeb Hote.
जैसे जुल्फों की लट है चेहरे के करीब तेरे,
काश हम भी आज तेरे करीब होते,
तेरे फूलों से चेहरे को हरदम निहारते हम,
काश ऐसी होती हमारी किस्मत ऐसे नसीब होते।


Pa Liya Tha Duniya Ki Sabse Haseen Ko,
Iss Baat Ka Toh Hamein Kabhi Garur Nahi Tha,
Woh Paas Rah Paate Humare Kuchh Aur Din,
Shayad Yeh Hamare Naseeb Ko Manjoor Nahi Tha.
पा लिया था दुनिया कि सबसे हसीन को,
इस बात का तो हमें कभी गुरूर नहीं था,
वो पास रह पाते हमारे कुछ और दिन,
शायद ये हमारे नसीब को मंजूर नहीं था।

Ads by Google

Loading...

Ads by Google

Sad Shayari, Khayaal Hoon Kisi Aur Ka

Sad Shayari, Zakhm Na Bharte Dekhe