Hindi Sad Shayari

Mir Sad Shayari Collection

मीर तक़ी मीर की दर्द भरी शायरी

Mir Sad Shayari Collection

Jab Ki Pahlu Se Yaar UthhTa Hai,
Dard Be-Ikhtiyaar UthhTa Hai.
जब कि पहलू से यार उठता है,
दर्द बे-इख़्तियार उठता है।


Zakhm Jhele Daag Bhi Khaaye Bahut,
Dil Laga Kar Hum Toh Pachhtaye Bahut.
ज़ख़्म झेले दाग़ भी खाए बहुत,
दिल लगा कर हम तो पछताए बहुत।

...Read More Shayaris
Ads by Google

Faiz Sad Shayari Collection

फैज़ अहमद फैज़ की दर्द भरी शायरी

Faiz Sad Shayari Collection

Na Gul Khile Hain Na Unse Mile Na May Pee Hai,
Ajeeb Rang Mein Ab Ke Bahaar Gujari Hai.
न गुल खिले हैं न उन से मिले न मय पी है,
अजीब रंग में अब के बहार गुज़री है।


Juda The Hum To Mayassar Thi Qurbatein Kitni,
Baham Huye Toh Padi Hai Judaayian Kya Kya.
जुदा थे हम तो मयस्सर थीं क़ुर्बतें कितनी,
बहम हुए तो पड़ी हैं जुदाइयाँ क्या क्या।

...Read More Shayaris
Ads by Google

Sad Shayari, Woh Bajaar Mein Bik Gaye

Deep Sad Shayaris in Hindi and English

Sad Shayari, Woh Bajaar Mein Bik Gaye

Ek Kahani Si Dil Par Likhi Reh Gayi,
Woh Nazar Jo Use Dekhti Reh Gayi,
Woh Bajaar Mein Aakar Bik Bhi Gaye,
Meri Keemat Lagi Ki Lagi Reh Gayi.
एक कहानी सी दिल पर लिखी रह गयी,
वो नजर जो उसे देखती रह गयी,
वो बाजार में आकर बिक भी गए,
मेरी कीमत लगी की लगी रह गयी।

...Read More Shayaris

Sad Shayari, Humari Bekasi Dekhi Nahi Jaati

Veary Meaningful Sad Hindi Shayari in Two Lines

Sad Shayari, Humari Bekasi Dekhi Nahi Jaati

Idhar Se Aaj Woh Gujre Toh Munh Phere Hue Gujre
Ab Unn Se Bhi Humari Bekasi Dekhi Nahi Jaati.
इधर से आज वो गुजरे तो मुँह फेरे हुए गुजरे,
अब उन से भी हमारी बेकसी देखी नहीं जाती।


Woh Kab Ka Bhul Chuka Hoga Humari Wafa Ka Kissa,
Bichhad Ke Kisi Ko Kisi Ka Khyal Kab Rahta Hai.
वो कब का भूल चुका होगा हमारी वफ़ा का किस्सा,
बिछड़ के किसी को किसी का ख्याल कब रहता है।

...Read More Shayaris
Ads by Google

Sad Shayari, Tere Haath Mein Patthar

True Sad Lines about Unfaithful Lover

Sad Shayari, Tere Haath Mein Patthar

Zakhm Sab Bhar Gaye Bas Ek Chubhan Baki Hai,
Haath Mein Tere Bhi Patthar Tha Hazaron Ki Tarah,
Paas Rehkar Bhi Kabhi Ek Nahi Ho Sakte,
Kitne Majboor Hain Dariya Ke Kinaro Ki Tarah.
ज़ख्म सब भर गए बस एक चुभन बाकी है,
हाथ में तेरे भी पत्थर था हजारों की तरह,
पास रहकर भी कभी एक नहीं हो सकते,
कितने मजबूर हैं दरिया के किनारों की तरह।

...Read More Shayaris