Hindi Sad Shayari

Sad Shayari, Tabahiyon Ka Gam Nahi

Sad Exclamatory Shayari and Sms in Hindi

Sad Shayari, Tabahiyon Ka Gam Nahi

Apni Tabahiyon Ka Mujhe Koi Gam Nahi,
Tum Ne Kisi Ke Saath Mohabbat Nibha Toh Di.
अपनी तबाहियों का मुझे कोई ग़म नहीं
तुम ने किसी के साथ मोहब्बत निभा तो दी।


Tum Na Laga Paoge Andaza Meri Tabahi Ka,
Tumne Dekha Hi Kahan Hai Mujhko Shaam Ke Baad.
तुम ना लगा पाओगे अंदाजा मेरी तबाही का,
तुमने देखा ही कहाँ है मुझको शाम के बाद।

...Read More Shayaris
Ads by Google

Iqbal Sad Shayari Collection

अल्लामा इकबाल की दर्द भरी शायरी

Iqbal Sad Shayari Collection

Duniya Ki Mehfil Se Ukta Gaya Hun Ya Rab,
Kya Lutf Anjuman Ka Jab Dil Hi Bujh Gaya Ho.
दुनिया की महफ़िलों से उकता गया हूँ या रब,
क्या लुत्फ़ अंजुमन का जब दिल ही बुझ गया हो।


Qaid-e-Mausam Se Tabiyat Rahi Aazad Uski,
Kaash Gulshan Mein Samjhta Koi Faritaad Uski.
क़ैद ए मौसम से तबीयत रही आज़ाद उसकी,
काश गुलशन में समझता कोई फ़रियाद उसकी।

...Read More Shayaris
Ads by Google

Sad Shayari, Dilbar Badal-Badal Kar

Two Line Gloomy Shayari in Hindi

Sad Shayari, Dilbar Badal-Badal Kar

Apna Toh Aashiqi Ka Kissa-e-Mukhtsar Hai,
Hum Ja Mile Khuda Se Dilbar Badal-Badal Kar.
अपना तो आशिकी का किस्सा-ए-मुख्तसर है,
हम जा मिले खुदा से दिलबर बदल-बदल कर।


Jeena Bhi Aa Gaya, Mujhe Marna Bhi Aa Gaya,
PahchanNe Laga Hun, Tumhari Najar Ko Main.
जीना भी आ गया, मुझे मरना भी आ गया,
पहचानने लगा हूँ, तुम्हारी नजर को मैं।

...Read More Shayaris

Mir Sad Shayari Collection

मीर तक़ी मीर की दर्द भरी शायरी

Mir Sad Shayari Collection

Jab Ki Pahlu Se Yaar UthhTa Hai,
Dard Be-Ikhtiyaar UthhTa Hai.
जब कि पहलू से यार उठता है,
दर्द बे-इख़्तियार उठता है।


Zakhm Jhele Daag Bhi Khaaye Bahut,
Dil Laga Kar Hum Toh Pachhtaye Bahut.
ज़ख़्म झेले दाग़ भी खाए बहुत,
दिल लगा कर हम तो पछताए बहुत।

...Read More Shayaris
Ads by Google

Faiz Sad Shayari Collection

फैज़ अहमद फैज़ की दर्द भरी शायरी

Faiz Sad Shayari Collection

Na Gul Khile Hain Na Unse Mile Na May Pee Hai,
Ajeeb Rang Mein Ab Ke Bahaar Gujari Hai.
न गुल खिले हैं न उन से मिले न मय पी है,
अजीब रंग में अब के बहार गुज़री है।


Juda The Hum To Mayassar Thi Qurbatein Kitni,
Baham Huye Toh Padi Hai Judaayian Kya Kya.
जुदा थे हम तो मयस्सर थीं क़ुर्बतें कितनी,
बहम हुए तो पड़ी हैं जुदाइयाँ क्या क्या।

...Read More Shayaris
Loading...
Loading...