1. Home
  2. Sad Shayari
  3. Sad Shayari Silsila Ulfat Ka

Sad Shayari, Silsila Ulfat Ka

Very Rare Sad Shayari on Ulfat

By | 27 Mar 2016 |
Sad Shayari, Silsila Ulfat Ka
Ads by Google

Yeh Silsila Ulfat Ka Chalta Hi Reh Gaya,
Dil Ki Chah Mein Dilbar Machalta Hi Reh Gaya,
Kuchh Der Ko Jal Ke Shama Khamosh Ho Gayi,
Parwana Magar Sadiyon Tak Jalta Hi Reh Gaya.
ये सिलसिला उल्फत का चलता ही रह गया,
दिल चाह में दिलबर के मचलता ही रह गया,
कुछ देर को जल के शमां खामोश हो गई,
परवाना मगर सदियों तक जलता ही रह गया।

Ads by Google

Kagaj Ki Kashti Se Paar Jaane Ki Na Soch,
Udte Huye Toofano Ko Haath Lagane Ki Na Soch,
Yeh Mohabbat Badi Bedard Hai IsSe Khel Na Kar,
Munasib Ho Jahan Tak Dil Bachane Ki Soch.
कागज की कश्ती से पार जाने की ना सोच,
उड़ते हुए तूफानों को हाथ लगाने की ना सोच,
ये मोहब्बत बड़ी बेदर्द है इससे खेल ना कर,
मुनासिब हो जहाँ तक दिल बचाने की सोच।

Wo Dard Hi Kya Jo Aankhon Se Beh Jaye,
Wo Khushi Hi Kya Jo Hoton Par Reh Jaye,
Kabhi To Samjho Meri Khamoshi Ko,
Wo Baat Hi Kya Jo Lafz Aasani Se Keh Jaye.
वो दर्द ही क्या जो आँखों से बह जाए,
वो खुशी ही क्या जो होठों पर रह जाए,
कभी तो समझो मेरी खामोशी को,
वो बात ही क्या जो लफ्ज़ आसानी से कह जायें।

Ads by Google

Sad Shayari, Adhure Ishq Ki Muqammal Yaad

Sad Shayari, Mohabbat Ka Dastoor