1. Home
  2. Shayari On Beauty
  3. Shayari on Beauty Parda Humein Se

Shayari on Beauty, Parda Humein Se

Shayari about Glorious Beauty and Simplicity of Lover

By | 21 Aug 2017 |
Shayari on Beauty, Parda Humein Se
Ads by Google

Kaise Bayaan Karein Saadgi Apne Mahboob Ki,
Parda Humin Se Tha Magar Najar Bhi Humin Pe Thi.
कैसे बयान करें सादगी अपने महबूब की,
पर्दा हमीं से था मगर नजर भी हमीं पे थी।

KamSini Ka Husn Tha Woh... Yeh Jawani Ki Bahaar,
Pahle Bhi Til Tha Rukh Par Magar Qatil Na Tha.
कमसिनी का हुस्न था वो... ये जवानी की बहार,
पहले भी तिल था रुख पर मगर क़ातिल न था।

Tera Andaaz-e-Sanwarna Bhi Kya Kamaal Hai,
Tujhe Dekhun Toh Dil Dhadke Na Dekhun Bechain Rahun.
तेरा अंदाज़-ए-सँवरना भी क्या कमाल है,
तुझे देखूं तो दिल धड़के ना देखूं बेचैन रहूँ।

Ads by Google

Humara Qatl Karne Ki Unki Saajish Toh Dekho,
Gujre Jab Kareeb Se Toh Chehre Se Parda Hata Diya.
हमारा क़त्ल करने की उनकी साजिश तो देखो,
गुजरे जब करीब से तो चेहरे से पर्दा हटा लिया।

Husn Ki Yeh Intehaan Nahin Hai Toh Kya Hai,
Chaand Ko Dekha Hai Hatheli Par Aaftab Liye Huye.
हुस्न की ये इन्तेहाँ नहीं है तो और क्या है,
चाँद को देखा है हथेली पे आफताब लिए हुए।

Kuchh Mausam Rangeen Hai Kuchh Aap Haseen Hain,
Tareef Karun Ya Chup Rahun Jurm Dono Sangeen Hain.
कुछ मौसम रंगीन है कुछ आप हसीन हैं,
तारीफ करूँ या चुप रहूँ जुर्म दोनो संगीन हैं।

Ads by Google

Shayari on Beauty, Kasoor Unke Chehre Ka