1. Home
  2. Aankhein Shayari
  3. Najar Shayari Collection

Najar Shayari Collection

नजर पर दो लाईन शायरी

By | 03 Mar 2016 |
Najar Shayari Collection
Ads by Google

Main Umra Bhar Jinka Na De Saka Jawab,
Woh Ek Najar Mein Itne Sawalat Kar Gaye.
मैं उम्र भर जिनका न कोई दे सका जवाब,
वह इक नजर में, इतने सवालात कर गये।

Bas Ek Lateef Tabassum Bas Ek Haseen Najar,
Mareej-e-Gam Ki Halat Sudhar To Sakti Hai.
बस इक लतीफ तबस्सुम बस इक हसीन नजर,
मरीजे-गम की हालत सुधर तो सकती है।

Najar Jiski Taraf Karke Nihagein Fer Lete Ho,
Qayamat Tak Uss Dil Ki Pareshani Nahi Jahi.
नजर जिसकी तरफ करके निगाहें फेर लेते हो,
कयामत तक उस दिल की परेशानी नहीं जाती।

Ads by Google

Woh Najar Uth Gayi Jab Sare Maiqada,
Khud-Ba-Khud Jaam Se Jaam Takra Gaye.
वह नजर उठ गई जब सरे मैकदा,
खुद-ब-खुद जाम से जाम टकरा गये।

Shamil Hain Isme Teri Najar Ke Saroor Bhi,
Peene Na Dunga Gair Ko Main Apne Jaam Se.
शामिल है इसमें तेरी नजर के सरूर भी,
पीने न दूँगा गैर को मैं अपने जाम से।

Sau Teer Zamane Ke Ek Teer-e-Najar Tera,
Ab Kya Koyi Samjhega Dil Kiska Nishana Hai.
सौ तीर जमाने के इक तीरे नजर तेरा,
अब क्या कोई समझेगा दिल किसका निशाना है?

Mili Jab Bhi Nazar Unse, Dhadkata Hai Hamara Dil,
Pukaare Wo Udhar Humko, Idhar Dum Kyu Nikalta Hai.
मिली जब भी नजर उनसे, धड़कता है हमारा दिल,
पुकारे वो उधर हमको, इधर दम क्यों निकलता है।

Ads by Google

Nigahein Shayari Collection

Aankhein Bejubaan Nahi

Loading...
Loading...