1. Home
  2. Aankhein Shayari
  3. Aankhein Shayari Tere Khwab Ka Laalach

Aankhein Shayari, Tere Khwab Ka Laalach

Hindi Shayaris for Beautiful Eyes in Two Lines

By | 05 May 2016 |
Aankhein Shayari, Tere Khwab Ka Laalach
Ads by Google

Raat Badi Mushkil Se Khud Ko Sulaya Hai Maine,
Apni Aankho Ko Tere Khwab Ka Laalach Dekar.
रात बड़ी मुश्किल से खुद को सुलाया है मैंने,
अपनी आँखों को तेरे ख्वाब का लालच देकर।

Khulte Hain Mujh Pe Raaz Kayi Iss Jahan Ke,
UsKi Haseen Aankhon Mein Jab Jhankta Hoon Main.
खुलते हैं मुझ पे राज कई इस जहान के,
उसकी हसीन आँखों में जब झाँकता हूँ मैं।

Ads by Google

Itne Sawaal The Mere Paas Ke Meri Umar Se Na Simat Sake,
Jitne Jawaab The Tere Paas Sabhi Teri Ek Nigah Me Aa Gaye.
इतने सवाल थे मेरे पास कि मेरी उम्र से न सिमट सके,
जितने जवाब थे तेरे पास सभी तेरी एक निगाह में आ गए।

Aye Waiz-e-Nadaan Karta Hai Tu EK Qayamat Ka Charcha,
Yehan Roj Nigaahein Milti Hain Yehan Roj Qayamat Hoti Hai.
ऐ वाइज़-ए-नादाँ करता है तू एक क़यामत का चर्चा,
यहाँ रोज़ निगाहें मिलती हैं यहाँ रोज़ क़यामत होती है।

Yeh Muskurati Huyi Aankhein Jin Mein Raks Karti Hai Bahaar,
Shafaq Ki, Gul Ki, Bijliyon Ki Shokhiyan Liye Huye.
यह मुस्कुराती हुई आंखें जिनमें रक्स करती है बहार,
शफक की, गुल की, बिजलियों की शोखियाँ लिये हुए।

Ads by Google

Aankhein Shayari, Milayenge Najar Kis Se

Aankho Mein Jhankne Se Pehle