1. Home
  2. Two Line Shayari
  3. Two Line Shayari Aks-e-Khushbu Hun

Two Line Shayari, Aks-e-Khushbu Hun

Favourite Two Line Hindi Shayaris

By | | Two Line Shayari
Two Line Shayari, Aks-e-Khushbu Hun
Ads by Google

Aks-e-Khushbu Hun Bikharne Se Na Roke Koi,
Aur Bikhar Jaaun Toh Mujhko Na Samete Koi.
अक्स-ए-ख़ुशबू हूँ बिखरने से न रोके कोई,
और बिखर जाऊँ तो मुझको न समेटे कोई।


Tareef Apne Aap Ki Karna Fizool Hai,
Khushboo Khud Bata Deti Hai Kaun Sa Phool Hai.
तारीफ़ अपने आप की करना फ़िज़ूल है,
ख़ुशबू ख़ुद बता देती है कौन सा फ़ूल है।


Mana Ke Iss Zamin Ko Na Gulzar Kar Sake,
Kuchh Khaar Kam Toh Kar Gaye Gujre Jidhar Se.
माना कि इस ज़मीं को न गुलज़ार कर सके,
कुछ ख़ार कम तो कर गए गुज़रे जिधर से हम।


Suna Hai Ab Bhi Mere Hathon Ki Lakeeron Mein,
Najumiyon Ko Muqaddar Dikhayi Deta Hai.
सुना है अब भी मेरे हाथ की लकीरों में,
नजूमियों को मुक़द्दर दिखाई देता है।


Jal Ke Aashiyan Apna Khaak Ho Chuka Kab Ka,
Aaj Tak Yeh Aalam Hai Roshni Se Darrte Hain.
जल के आशियाँ अपना ख़ाक हो चुका कब का,
आज तक ये आलम है रोशनी से डरते हैं।

Ads by Google

Loading...

Ads by Google

Zamana Shayari Collection

Two Line Shayari, Kashti Bach Gayi Apni