1. Home
  2. Two Line Shayari
  3. Hindi Shayari on Insaniyat

Hindi Shayari on Insaniyat

Shayari Collection about Insaan and Insaaniyat

By | 08 Jul 2016 |
Hindi Shayari on Insaniyat
Ads by Google

Pahle Jamin Banti Phir Ghar Bhi Bant Gaya,
Insaan Apne Aap Mein Kitna Simat Gaya.
पहले ज़मीं बँटी फिर घर भी बँट गया,
इंसान अपने आप में कितना सिमट गया।

Aayina Koi Aisa Banaa De Aye Khuda,
Jo Insaan Ka Chehra Nahi Kirdaar Dikha De.
आइना कोई ऐसा बना दे, ऐ खुदा जो,
इंसान का चेहरा नहीं किरदार दिखा दे।

Insaan Ki Khwahishon Ki Koi Inteha Nahi,
Do Gaz Zamin Bhi Chahiye Do Gaz Kafan Ke Baad.
इंसाँ की ख़्वाहिशों की कोई इंतिहा नहीं,
दो गज़ ज़मीं भी चाहिए दो गज़ कफ़न के बाद।

Humari Aarjuon Ne Humein Insaan Bana Dala,
Varna Jab Jahaan Mein Aaye The Bande The Khuda Ke.
​​हमारी आरजूओं ने हमें इंसान बना डाला​,
​वरना जब जहां में आये थे बन्दे ​​​थे खुदा के​।​

Two Line Insaniyat Shayari in Hindi
Fitrat Soch Aur Halaat Mein Farq Hai Verna,
Insaan Kaisa Bhi Ho Dil Ka Bura Nahi Hota.
फितरत सोच और हालात में फर्क है वरना,
इन्सान कैसा भी हो दिल का बुरा नही होता।

Hum Khuda The Gar Na Hota Dil Mein Koi Mudda,
Aarzuon Ne Humari Humko Bandaa Kar Diya.
हम खुदा थे गर न होता दिल में कोई मुद्दा,
आरजूओं ने हमारी हमको बंदा कर दिया।

Dil Ke Mandiron Mein Kahin Bandgi Nahi Karte,
Patthar Ki Imarto Mein Khuda Dhoondhte Hain Log.
दिल के मंदिरों में कहीं बंदगी नहीं करते,
पत्थर की इमारतों में खुदा ढूंढ़ते हैं लोग।

Jinhein Mahsoos Insaano Ke Ranjo-Gham Nahi Hote,
Woh Insaan Bhi Hargij Pattharon Se Kam Nahi Hote.
जिन्हें महसूस इंसानों के रंजो-गम नहीं होते,
वो इंसान भी हरगिज पत्थरों से कम नहीं होते।

Ads by Google

Chand Sikkon Mein Bikta Hai Yeha Insaan Ka Zamir,
Kaun Kehta Hai Mere Mulk Mein Mehgayi Bahut Hai.
चंद सिक्कों में बिकता है यहाँ इंसान का ज़मीर,
कौन कहता है मेरे मुल्क में महंगाई बहुत है।

Jism Ki Saari Ragein Toh Syaah Khoon Se Bhar Gayin,
Fakr Se Kehte Hain Phir Bhi Hum Ke Hum Insaan Hain.
जिस्म की सारी रगें तो स्याह खून से भर गयी हैं,
फक्र से कहते हैं फिर भी हम कि हम इंसान हैं।

Insaaniyat Ki Roshni Gumm Ho Gayi Kahan,
Saaye Toh Hain Aadmi Ke Magar Aadmi Kahan?
इन्सानियत की रौशनी गुम हो गई कहाँ,
साए तो हैं आदमी के मगर आदमी कहाँ?

Jinhein Mahsoos Insaano Ke Ranjo-Gham Nahi Hote,
Wo Insaan Bhi Hargij Pattharon Se Kam Nahi Hote.
जिन्हें महसूस इंसानों के रंजो-गम नहीं होते,
वो इंसान भी हरगिज पत्थरों से कम नहीं होते।

Dekhein Kareeb Se Toh Bhi Achchha Dikhai De,
Ik Aadmi Toh Mere Shahar Mein Aisa Dikhai De.
देखें करीब से तो भी अच्छा दिखाई दे,
इक आदमी तो शहर में ऐसा दिखाई दे।

Meri Jubaan Ke Mausam Badalte Rahte Hain,
Main Toh Aadmi Hun Mera Aitbaar Mat Karna.
मेरी जबान के मौसम बदलते रहते हैं,
मैं तो आदमी हूँ मेरा ऐतबार मत करना।

Two Line Aadmi Shayari Khuda Aadmi Ko Badal Na Saka
Khuda Na Badal Saka Aadmi Ko Aaj Bhi Yaaron,
Aur Aadmi Ne Saikado Khuda Badal Daale.
खुदा न बदल सका आदमी को आज भी यारों,
और आदमी ने सैकड़ो खुदा बदल डाले।

Ilm-o-Adab Ke Saare Khajane Gujar Gaye,
Kya Khoob The Wo Log Puraane Gujar Gaye,
Baaki Hai Bas Zamin Pe Aadmi Ki Bheed,
Insaan Ko Mare Hue Toh Zamane Gujar Gaye.
इल्म-ओ-अदब के सारे खजाने गुजर गए,
क्या खूब थे वो लोग पुराने गुजर गए,
बाकी है बस जमीं पे आदमी की भीड़,
इंसान को मरे हुए तो ज़माने गुजर गए।

Ads by Google

Iqbal Two Line Shayari

Mir Two Line Shayari Collection