1. Home
  2. Two Line Shayari
  3. Two Line Shayari Na Fursat Na Khayal

Two Line Shayari, Na Fursat Na Khayal

दिल को छू जाने वाली नयी दो लाईन शायरी

By | 29 Jan 2016 |
Two Line Shayari, Na Fursat Na Khayal
Ads by Google

Gujar Gaya Aaj Ka Din Bhi Pehle Ki Tarah,
Na Humko Fursat Mili Na Unhein Khayal Aaya.
गुज़र गया आज का दिन भी पहले की तरह,
न हमको फुर्सत मिली न उन्हें ख्याल आया।

Bahut Mashroof Ho Shayad Jo Humko Bhul Baithe Ho,
Na Yeh Puchha Kahan Pe Ho Na Yeh Jana Ki Kaise Ho.
बहुत मसरूफ हो शायद जो हम को भूल बैठे हो,
न ये पूछा कहाँ पे हो न यह जाना के कैसे हो।

Kyun Karte Ho Mere Dil Par Itna Sitam,
Yaad Karte Nahi Toh Yaad Aate Kyun Ho?
क्यूँ करते हो मेरे दिल पर इतना सितम?
याद करते नहीं, तो याद आते ही क्यूँ हो।

Ads by Google

Bewaqt Bewajah Besabab Si Berukhi Teri,
Phir Bhi Beinteha Chahne Ki Bebasi Meri.
बेवक्त बेवजह बेसबब सी बेरुखी तेरी,
फिर भी बेइंतहा तुझे चाहने की बेबसी मेरी।

Na Tum Bure Sanam Na Hum Bure Sanam,
Kuchh Kismat Buri Hai Aur Kuchh Waqt Bura Hai.
ना तुम बुरे सनम, ना हम बुरे सनम,
कुछ किस्मत बुरी है और कुछ वक्त बुरा है।

Abhi Toh Chur-Chur Hi Huye Hain Tere Ishq Mein,
Mere Bikharne Ka Khel Toh Abhi Baaki Hai.
अभी तो चूर-चूर ही हुए है तेरे इश्क में,
मेरे बिखरने का खेल तो अभी बाकी है।

Ads by Google

Aadat Shayari, Muskurane Ki Aadat

Mirza Ghalib Ki Two Line Sad Shayari