Two Line Shayaris

Khudkushi Shayari Collection

Heart Touching Khudkushi Shayaris in Hindi

Khudkushi Shayari Collection

Puchha Na Zindagi Mein Kisi Ne Bhi Dil Ka Haal,
Ab Shahar Bhar Mein Zikr Meri Khudkushi Ka Hai.
पूछा न जिंदगी में किसी ने भी दिल का हाल,
अब शहर भर में ज़िक्र मेरी खुदकुशी का है।


Bhule Hain Rafta-Rafta Unhein Muddaton Mein Hum,
Kishton Mein KhudKushi Ka Mazaa Hum Se Puchhiye.
भूले हैं रफ्ता-रफ्ता उन्हें मुद्दतों में हम,
किश्तों में खुदकुशी का मज़ा हम से पूछिए।

...Read More Shayaris
Ads by Google

Two Line Shayari, Khijaan Kya Bahaar Kya

Meaningful Two Liner Shayais in Hindi

Jiski Kafas Mein Aankh Khuli Ho Meri Tarah,
Uske Liye Chaman Ki Khijaan Kya Bahaar Kya.
जिसकी कफस में आँख खुली हो मेरी तरह,
उसके लिये चमन की खिजाँ क्या बहार क्या।


Kaante Kisi Ke Haq Mein Kisi Ko Gulo-Samar,
Kya Khoob Ehtmaam-e-Gulistaan Hai AajKal.
कांटे किसी के हक में किसी को गुलो-समर,
क्या खूब एहतमाम-ए-गुलिस्ताँ है आजकल।

...Read More Shayaris
Ads by Google

Faiz Two Line Shayari Collection

फैज़ अहमद फैज़ की दो लाईन शायरी

Faiz Two Line Shayari Collection

Inn Mein Lahu Jala Ho Humara Ki Jaan-o-Dil,
Mehfil Mein Kuchh Chiraag Farozaan Huye Toh Hain.
इन में लहू जला हो हमारा कि जान ओ दिल,
महफ़िल में कुछ चराग़ फ़रोज़ाँ हुए तो हैं।


Phir Najar Mein Phool Maheke Dil Phir Shamayein Jalin,
Phir Tasawwur Ne Liya Uss Bazm Mein Jaane Ka Naam.
फिर नज़र में फूल महके दिल में फिर शम्में जलीं,
फिर तसव्वुर ने लिया उस बज़्म में जाने का नाम।

...Read More Shayaris

Iqbal Two Line Shayari

अल्लामा इकबाल की दो लाईन शायरी

Iqbal Two Line Shayari

Aankh Jo Kuchh Dekhti Hai Lab Pe Aa Sakta Nahi,
Mahb-e-Hairat Hun Ki Duniya Kya Se Kya Ho Jayegi.
आँख जो कुछ देखती है लब पे आ सकता नहीं,
महव-ए-हैरत हूँ कि दुनिया क्या से क्या हो जाएगी।


KhudaVand Yeh Tere Sada-Dil Bande Kidhar Jaayein,
Ki Darveshi Bhi Ayyari Hai Sultani Bhi Ayyari.
ख़ुदावंद ये तेरे सादा-दिल बंदे किधर जाएँ,
कि दरवेशी भी अय्यारी है सुल्तानी भी अय्यारी।

...Read More Shayaris
Ads by Google

Hindi Shayari on Insaniyat

Shayari Collection about Insaan and Insaaniyat

Hindi Shayari on Insaniyat

Pahle Jamin Banti Phir Ghar Bhi Bant Gaya,
Insaan Apne Aap Mein Kitna Simat Gaya.
पहले ज़मीं बँटी फिर घर भी बँट गया,
इंसान अपने आप में कितना सिमट गया।


Aayina Koi Aisa Banaa De Aye Khuda,
Jo Insaan Ka Chehra Nahi Kirdaar Dikha De.
आइना कोई ऐसा बना दे, ऐ खुदा जो,
इंसान का चेहरा नहीं किरदार दिखा दे।

...Read More Shayaris