Two Line Shayaris

Ads by Google

Two Line Shayari, Woh Pehle Sa Manjar

Deep 2 Liner Couplets in Hindi and English

Woh Pehle Sa Kahin Mujhko Koi Manjar Nahi Lagta,
Yehan Logon Ko Dekho Ab Khuda Ka Darr Nahi Lagta.
वो पहले सा कहीं मुझको कोई मंज़र नहीं लगता,
यहाँ लोगों को देखो अब ख़ुदा का डर नहीं लगता।


Baahar Ke Sard Mausam Par Toh Tumhein Aitraaz Ho Chala Hai,
Rago Mein Bahte Sard Khoon Ka Kabhi Tum Zikr Nahi Karte.
बाहर के सर्द मौसम पर तो तुम्हें ऐतराज़ हो चला है,
रगों में बहते सर्द खून का कभी तुम ज़िक्र नहीं करते।

...Read More Shayaris

Two Line Shayari, Yeh Perh Yeh Patte

2 Lines Shayari Expressing Very Precious Thoughts

Yeh Perh Yeh Patte Yeh Shakhein Pareshan Ho Jayein,
Agar Parinde Bhi Hindu Aur Musalmaan Ho Jayein.
ये पेड़ ये पत्ते ये शाखें भी परेशान हो जाएं,
अगर परिंदे भी हिन्दू और मुस्लमान हो जाएं।


Apni Manzil Pe Pahuchna Bhi Khade Rehna Bhi,
Kitna Mushkil Hai Bade HoKe Bade Rahna Bhi.
अपनी मंज़िल पे पहुँचना भी खड़े रहना भी,
कितना मुश्किल है बड़े होके बड़े रहना भी।

...Read More Shayaris
Ads by Google

Two Line Shayari, Gunaah Ujagar Nahi Hote

Very Short Two Line Stinging Shayaris

Bekasoor Koi Nahi Iss Zamaane Mein,
Bas Sabke Gunaah Ujagar Nahi Hote.
बेकसूर कोई नहीं इस ज़माने में,
बस सबके गुनाह उजागर नहीं होते।


Jalzala Sa Hai Dil Ki Galiyon Mein,
Shayad Tere Ehsaas Gujre Hain Idhar Se.
जलज़ला सा है दिल की गलियो में,
शायद तेरे एहसास गुज़रे है इधर से।

...Read More Shayaris

Two Line Shayari, Meri Shayari Ka Asar

Beautiful Hindi Lines about Shayari

Meri Shayari Ka Asar Unpe Ho Bhi Toh Kaise Ho?
Ki Main Ehsaas Likhta Hun Woh Alfaz Parhte Hain.
मेरी शायरी का असर उनपे हो भी तो कैसे हो ?
कि मैं एहसास लिखता हूँ तो वो अल्फाज़ पढ़ते हैं।


Humari ‪Shayari‬ Parh Kar Bas Itna Hi Bole Woh,
‪Kalam‬ Chheen Lo Inse ‪Lafz‬ ‪Dil‬ Cheer Dete Hai.
हमारी शायरी पढ़कर बस इतना ही बोले वो,
कलम छीन लो इनसे लफ्ज़ दिल चीर देते हैं।

...Read More Shayaris
Ads by Google

Two Line Shayari, Saadgi Ka Nuksaan

Telling Shayaris in Two Lines

Koi Tabeez Aisa Do Ki Main Chalaak Ho Jaun,
Bahut Nuksaan Deti Hai Mujhe Yeh Saadgi Meri.
कोई ताबीज़ ऐसा दो कि मैं चालाक हो जाऊं,
बहुत नुकसान देती है मुझे ये सादगी मेरी।


Waqif Tha Meri Khana-Kharabi Se Woh Shakhs,
Jo Mujhse Mere Ghar Ka Pataa Puchh Raha Tha.
वाकिफ था मेरी खाना-खराबी से वो शख्स,
जो मुझसे मेरे घर का पता पूछ रहा था।

...Read More Shayaris