Two Line Shayaris

Mirza Ghalib Ki Two Line Sad Shayari

मिर्ज़ा ग़ालिब की दर्द भरी दो लाईन शायरी

Mirza Ghalib Ki Two Line Sad Shayari

Ishq Se Tabiyat Ne Zeest Ka Mazaa Paya,
Dard Ki Dawa Payi Dard Be Dawa Paya.
इश्क से तबियत ने जीस्त का मजा पाया,
दर्द की दवा पाई दर्द बे-दवा पाया।


Aata Hai Daag-e-Hasrat-e-Dil Ka Shumaar Yaad,
Mujhse Mere Gunah Ka Hisaab Ai Khudaa Na Maang.
आता है दाग-ए-हसरत-ए-दिल का शुमार याद,
मुझसे मेरे गुनाह का हिसाब ऐ खुदा न माँग।

...Read More Shayaris
Ads by Google

Mirza Ghalib Two Line Shayari Collection

Best Two Line Shayaris of Mirza Galib

Hain Aur Bhi Duniya Mein Sukhan-War Bahot Achhe,
Kehte Hain Ki Ghalib Ka Hai Andaaz-e-Bayan Aur.
हैं और भी दुनिया में सुखन-वर बहुत अच्छे,
कहते हैं कि ग़ालिब का है अंदाज़-ए-बयाँ और।


Unke Dekhe Se Jo Aa Jaati Hai Chehre Par Raunaq,
Woh Samajhte Hain Ke Beemaar Ka Haal Achcha Hai.
उनके देखने से जो आ जाती है चेहरे पर रौनक,
वो समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है।

...Read More Shayaris
Ads by Google

Two Line Shayari, Kitni Roshan Meri Tanhai

नयी दो लाईन शायरी

Teri Yaadon Ke Har Taraf Hujoom,
Kitni Roshan Hai Meri Tanhayi.
तेरी यादों के है हर तरफ़ हुजूम,
कितनी रोशन है मेरी तन्हाई।


Wo Khud Ek Sawaal Ban Ke Rah Gaya,
Jo Meri Puri Zindgi Ka Jabbab Tha.
वो ख़ुद एक सवाल बन कर रह गया,
जो मेरी पूरी ज़िंदगी का जवाब था।

...Read More Shayaris

Kash Shayari Collection

Latest 2 Lines Kash Shayari in Hindi and English Script

Dil-e-Gumrah Ko Kash Yeh Malum Hota,
Pyar Tab Tak Haseen Hai Jab Tak Nahi Hota.
दिल-ए-गुमराह को काश ये मालूम होता,
प्यार तब तक हसीन है, जब तक नहीं होता।


Wo Roz Dekhta Hai DoobTe Suraj Ko Iss Tarah,
Kash... Main Bhi Kisi Shaam Ka Manzar Hota.
वो रोज़ देखता है डूबते सूरज को इस तरह,
काश... मैं भी किसी शाम का मंज़र होता।

...Read More Shayaris
Ads by Google

Two Line Shayari, Hoti Agar Mohabbat

Awesome Telling Two Liner Shayari in Hindi

Hoti Agar Mohabbat Baadal Ke Saaye Ki Tarah,
To Main Tere Shahar Me Kabhi Dhoop Na Aane Deta.
होती अगर मोहब्बत बादल के साये की तरह,
तो मैं तेरे शहर में कभी धूप ना आने देता।


Abhi Myaan Mein Talwaar Mat Rakh Apni,
Abhi Toh Shahar Mein Ek Be-Qasoor Baaqi Hai.
अभी मियान में तलवार मत रख अपनी
अभी तो शहर में इक बे-क़सूर बाक़ी है।

...Read More Shayaris