1. Home
  2. Yaad Shayari
  3. Yaad Shayari Yaad Aaye Toh Be-Hisaab

Yaad Shayari, Yaad Aaye Toh Be-Hisaab

Couplets about Genuine Expressions of Remembrance

By | 09 Jun 2016 |
Yaad Shayari, Yaad Aaye Toh Be-Hisaab
Ads by Google

Kar Raha Tha Gham-E-Jahan Ka Hisaab,
Aaj Tum Yaad Aaye Toh Be-Hisaab Aaye.
कर रहा था ग़म-ए-जहाँ का हिसाब,
आज तुम याद आये तो बेहिसाब आये।

Kahega Jhhoot Woh Humse Tumhari Yaad Aati Hai,
Koi Hai Muntzir Kitna Yeh Lehje Bol Dete Hain.
कहेगा झूठ वो हमसे तुम्हारी याद आती है,
कोई है मुन्तजिर कितना ये लहजे बोल देते हैं।

Ads by Google

Ujaale Apni Yaadon Ke Hamaare Saath Rahne Do,
Na Jaane Kis Gali Mein Zindagi Ki Shaam Ho Jaaye.
उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो,
न जाने किस गली में जिंदगी की शाम हो जाए।

Band Mutthi Se Girti Hui Ret Ki Tarah,
Bhula Diya Tumne Toh Zarra Zarra Kar Ke.
बंद मुट्ठी से गिरती हुयी रेत की तरह,
भुला दिया तुमने तो ज़र्रा ज़र्रा कर के।

Hasrat Nahi Armaan Nahi Aas Nahi Hai,
Yaadon Ke Siwa Kuchh Bhi Mere Paas Nahi Hai.
हसरत नहीं, अरमान नहीं, आस नहीं है,
यादों के सिवा कुछ भी मेरे पास नहीं है।

Ads by Google

Yaad Shayari, Woh Silsile Woh Shauk

Yaad Shayari, Phir Teri Talab

loading...