1. Home
  2. Alone Shayari
  3. Alone Shayari Umr Gujaari Hai Uss Tarah

Alone Shayari, Umr Gujaari Hai Uss Tarah

Small Alone Shayari in Two Lines

By | 16 Jun 2016 |
Alone Shayari, Umr Gujaari Hai Uss Tarah
Ads by Google

Aye Shamma Tujhpe Yeh Raat Bhaari Hai Jis Tarah,
Humne Tamaam Umr Gujaari Hai Uss Tarah.
ऐ शम्मा तुझपे ये रात भारी है जिस तरह,
हमने तमाम उम्र गुजारी है उस तरह।

Tumhare Bagair Yeh Waqt Yeh Din Aur Yeh Raat,
Gujar Toh Jaate Hain Magar Gujaare Nahi Jaate.
तुम्हारे बगैर ये वक़्त ये दिन और ये रात,
गुजर तो जाते हैं मगर गुजारे नहीं जाते।

Ads by Google

Tere Wajood Ki Khushbo Basi Hai Saanson Mein,
Yeh Aur Baat Hai Najaron Se Dur Rahete Ho.
तेरे वजूद की खुशबु बसी है साँसों में,
ये और बात है नजरों से दूर रहते हो।

Yun Bhi Hua Hai Raat Ko Jab Log So Gaye,
Tanhai Aur Main Teri Baaton Mein Kho Gaye.
यूँ भी हुआ रात को जब लोग सो गए,
तन्हाई और मैं तेरी बातों में खो गए।

Khuda Kare Ke Teri Umr Mein Gine Jayein,
Woh Din Jo Humne Tere Hijr Mein Gujaare Hain.
खुदा करे के तेरी उम्र में गिने जाये,
वो दिन जो हमने तेरे हिज्र में गुजारे है।

Ads by Google

Alone Shayari, Main Hajaaron Mein Tanha

Alone Shayari, Tanhayion Ka Shahar

Loading...
Loading...