Hurt Shayari

Hurt Shayari, Tu Mujhse Kinara Kar Le

Heart Touching Hurt Shayari in Hindi

Hurt Shayari, Tu Mujhse Kinara Kar Le

Tu Bhi Auro Ki Tarah Mujhse Kinara Kar Le,
Saari Dunia Se Bura Hun Tere Kaam Ka Nahi.
तू भी औरों की तरह मुझसे किनारा कर ले,
सारी दुनिया से बुरा हूँ तेरे काम का नहीं।


Haan Mujhe Rasm-e-Mohabbat Ka Saleeka Hi Nahi,
Ja Kisi Aur Ka Hone Ki Ijazat Hai Tujhe.
हाँ मुझे रस्म-ए-मोहब्बत का सलीक़ा ही नहीं,
जा किसी और का होने की इजाज़त है तुझे।

...Read More Shayaris
Ads by Google

Hurt Shayari, Diye Hain Zakhm

New Two Line Shayari When Someone Hurts in Love

Diye Hain Zakhm Toh Marham Ka Takalluf Na Karo,
Kuchh Toh Rahne Do Meri Zaat Pe Ehsaan Apna.
दिए हैं ज़ख़्म तो मरहम का तकल्लुफ न करो,
कुछ तो रहने दो मेरी ज़ात पे एहसान अपना।


Bas Tumhein Paane Ki Tamanna Nahi Rahi,
Mohabbat Toh Aaj Bhi Tumse Beshumar Karte Hain.
बस तुम्हेँ पाने की तमन्ना नहीं रही,
मोहब्बत तो आज भी तुमसे बेशुमार करते हैं।

...Read More Shayaris
Ads by Google

Hurt Shayari, Pyaar Na Karenge

Nice Hurt Shayari, Sms and Status in Hindi

Hurt Shayari, Pyaar Na Karenge

Taras Gaye Hain Thodi Si Wafaa Ke Liye,
Kisi Se Pyaar Na Karenge Khuda Ke Liye,
Jab Bhi Lagti Hai Ishq Ki Aadalat,
Hum Hi Chune Jaate Hain Sazaa Ke Liye.
तरस गए हैं थोड़ी सी वफ़ा के लिए,
किसी से प्यार न करेंगे खुदा के लिए,
जब भी लगती है इश्क की अदालत,
हम ही चुने जाते हैं सजा के लिए।

...Read More Shayaris

Hurt Shayari, Teri Talkh Baat

Hindi Hurt Shayari on Hard Words of Lover

Baato Mein Talkhi Lehze Mein Bewafai,
Lo Ye Mohabbat Bhi Pahuchi Anjaam Par.
बातों में तल्खी और लहजे में बेवफाई,
लो ये मोहब्बत भी पहुँची अंजाम पर।


Chup Hain Kisi Sabr Se To Patthar Na Samajh,
Dil Pe Asar Hua Hai Teri Baat Baat Ka.
चुप हैं किसी सब्र से तो पत्थर न समझ हमें,
दिल पे असर हुआ है तेरी बात-बात का।

...Read More Shayaris
Ads by Google

Feeling Hurt, Jajbaat Ki Aukaat Kam Aanki

Best Shayari on Feeling Hurt

Baat Unchi Thi Magar Baat Jara Kaam Aanki,
Mere Jajbaat Ki Aukaat Jara Kam Aanki,
Wo Farishta Keh Kar Mujhe Jaleel Karta Raha,
Main Insaan Hoon, Meri Jaat Jara Kam Aanki.

बात ऊंची थी मगर बात जरा कम आंकी,
मेरे जज्बात की औकात ज़रा कम आंकी,
वो फ़रिश्ता कह कर मुझे जलील करता रहा,
मैं इंसान हूँ मेरी जात ज़रा कम आंकी।