Hindi Hurt Shayari, Zakhm Na Dekhe Dil Ke

Latest 2 Line Hurt Shayari in Hindi

Advertisement

Dekhi Hothho Ki Hansi Zakhm Na Dekhe Dil Ke,
Aap Bhi Auron Ki Tarha Kha Gaye Dhokha Kaise.
देखी होठों की हँसी ज़ख्म न देखे दिल के,
आप भी औरों की तरह खा गए धोखा कैसे।

Zakhm Na Dekhe Dil Ke - Hurt Shayari
Hurt Shayari - Zakhm Na Dekhe

Bhula Diye The Jo Waqt Ke Bhanwar Mein Humne,
Aaj Dil Ke Wo Puraane Zakhm Tezaab Ho Gaye.
भुला दिए थे जो वक्त के भंवर में हमने,
आज दिल के वो पुराने ज़ख्म तेज़ाब हो गए।

Advertisement

Der To Lagti Hai Us Ko Bharne Mein,
Jis Zakhm Mein Shamil Ho Apno Ki Inayat.
देर तो लगती है उस को भरने में,
जिस ज़ख्म में शामिल हो अपनों की इनायत।

Tu Ne To Iraade Hi Mere Tod Diye Hain,
Gujrega Safar Kaise Khada Soch Raha Hoon.
तू ने तो इरादे ही मेरे तोड़ दिए हैं,
गुजरेगा सफर कैसे खड़ा सोच रहा हूँ।

Ab Aur Nahi Hoti Ishq Ki Ghulami,
Yaaro Keh Do Use, Ho Jaye Jiska Hona Hai.
अब और नहीं होती इश्क की गुलामी,
यारो कह दो उसे, हो जाये जिसका होना है।

Advertisement

Aatish-e-Ishq Mein Jal Jaaun

Comments