Two Line Shayaris

Ads by Google

Two Line Deedar Shayari Collection

Latest Deedar Shayari in Hindi and English Font

Deedar Ki Talab Hai Toh Nazrein Jamaaye Rakh,
Kyuki Naqaab Ho Ya Naseeb Sarakta Jaroor Hai.
दीदार की तलब हो तो नज़रे जमाये रख,
क्युकि नकाब हो या नसीब सरकता जरुर है।


Aaj Dil Ne Tere Deedar Ki Khwahish Rakhi Hai,
Mile Agar Fursat Toh Khwabon Mein Aa Jana.
आज दिल ने तेरे दीदार की ख्वाहिश रखी है,
मिले अगर फुरसत तो ख्वाबों मे आ जाना।

...Read More Shayaris

Khafa Shayari Collection

खफा होने पर हिंदी में दो लाईन शायरी

Har Baar Ilzaam Hum Par Hi Lagana Theek Nahi,
Wafa Khud Se Nahi Hoti Khafa Hum Par Hote Ho.
हर बार इल्जाम हम पर लगाना ठीक नहीं,
वफ़ा खुद से नहीं होती खफा हम पर होते हो।


Woh Dhoondh Rahe The Mujhko Bhool Jane Ke Tareeke,
Khafa Ho Kar Unki Mushkil Aasaan Kar Di Humne.
वो ढूढ़ रहे थे मुझ को भूल जाने के तरीके,
खफा हो कर उनकी मुश्किल आसान कर दी हमने।

...Read More Shayaris
Ads by Google

Aadat Shayari, Muskurane Ki Aadat

हिंदी में आदत पर दो लाइन शायरी

Kis Tarah Khud Ko Karen Tere Pyar Ke Kabil Hum,
Hum Aadate Badalte Hain To Tum Sharte Badal Dete Ho.
किस तरह करे खुद को तेरे प्यार के क़ाबिल हम,
हम आदतें बदलते है तो तुम शर्ते बदल देते हो।


Wo Toh Apni Ek Aadat Ko Bhi Na Badal Saka,
Jane Kyun Maine Uske Liye Apni Zidagi Badal Dali?
वो तो अपनी एक आदत को भी ना बदल सका..
जाने क्यूँ मैंने उसके लिए अपनी जिंदगी बदल डाली?

...Read More Shayaris

Two Line Shayari, Na Fursat Na Khayal

दिल को छू जाने वाली नयी दो लाईन शायरी

Gujar Gaya Aaj Ka Din Bhi Pehle Ki Tarah,
Na Humko Fursat Mili Na Unhein Khayal Aaya.
गुज़र गया आज का दिन भी पहले की तरह,
न हमको फुर्सत मिली न उन्हें ख्याल आया।


Bahut Mashroof Ho Shayad Jo Humko Bhul Baithe Ho,
Na Yeh Puchha Kahan Pe Ho Na Yeh Jana Ki Kaise Ho.
बहुत मसरूफ हो शायद जो हम को भूल बैठे हो,
न ये पूछा कहाँ पे हो न यह जाना के कैसे हो।

...Read More Shayaris
Ads by Google

Mirza Ghalib Ki Two Line Sad Shayari

मिर्ज़ा ग़ालिब की दर्द भरी दो लाईन शायरी

Ishq Se Tabiyat Ne Zeest Ka Mazaa Paya,
Dard Ki Dawa Payi Dard Be Dawa Paya.
इश्क से तबियत ने जीस्त का मजा पाया,
दर्द की दवा पाई दर्द बे-दवा पाया।


Aata Hai Daag-e-Hasrat-e-Dil Ka Shumaar Yaad,
Mujhse Mere Gunah Ka Hisaab Ai Khudaa Na Maang.
आता है दाग-ए-हसरत-ए-दिल का शुमार याद,
मुझसे मेरे गुनाह का हिसाब ऐ खुदा न माँग।

...Read More Shayaris
Loading...