1. Home
  2. Two Line Shayari
  3. Two Line Shayari Gunaah Ujagar Nahi Hote

Two Line Shayari, Gunaah Ujagar Nahi Hote

Very Short Two Line Stinging Shayaris

By | 09 Jun 2016 |
Two Line Shayari, Gunaah Ujagar Nahi Hote
Ads by Google

Bekasoor Koi Nahi Iss Zamaane Mein,
Bas Sabke Gunaah Ujagar Nahi Hote.
बेकसूर कोई नहीं इस ज़माने में,
बस सबके गुनाह उजागर नहीं होते।

Jalzala Sa Hai Dil Ki Galiyon Mein,
Shayad Tere Ehsaas Gujre Hain Idhar Se.
जलज़ला सा है दिल की गलियो में,
शायद तेरे एहसास गुज़रे है इधर से।

Khud Bhi Shamil Nahi Safar Mein,
Par Log Kehte Hain Kafila Hun Main.
ख़ुद भी शामिल नहीं सफ़र में,
पर लोग कहते हैं काफ़िला हूँ मैं।

Ads by Google

Saari Zindgi Rakha Rishton Ka Bhram,
Koi Apne Siwa Apna Na Mila Mujhe.
सारी ज़िन्दगी रखा रिश्तो का भ्रम,
कोई अपने सिवा अपना ना मिला मुझे।

Tumhein Ab Bhool Sakta Hun Khushi Se,
Pata Apna Mujhe Yaad Aa Gaya Hai.
तुम्हें अब भूल सकता हूँ खुशी से,
पता अपना मुझे याद आ गया है।

Mera Jhukna Aur Tera Khuda Ho Jana,
Yaar Achha Nahi Itna Bada Ho Jana.
मेरा झुकना और तेरा खुदा हो जाना,
यार अच्छा नहीं इतना बड़ा हो जाना।

Alfaaz Ke Kuchh Toh Kankar Fenko,
Yeha Jheel Si Gehri Khamoshi Hai.
अल्फ़ाज़ के कुछ तो कंकर फेंको,
यहाँ झील सी गहरी खामोशी है।

Ads by Google

Two Line Shayari, Yeh Perh Yeh Patte

Two Line Shayari, Meri Shayari Ka Asar