Agar Humein Bikna Hi Agar Hota

Shayari about Attitude in Two Lines

Advertisement

Maine Kab Kaha Ki Tum Keemat Samjho Humari,
Humein Bikna Hi Agar Hota To Yoon Tanha Nahi Hote.
मैंने कब कहा कि तुम कीमत समझो हमारी,
हमें बिकना ही अगर होता तो यूँ तनहा नहीं होते।

Dafn Kar Sakta Hoon Seene Mein Tumhare Raaz Ko,
Aur Tum Chaaho To Afsana Bana Sakta Hoon Main.
दफ़्न कर सकता हूँ सीने में तुम्हारे राज़ को,
और तुम चाहो तो अफ़्साना बना सकता हूँ मैं।

Advertisement

Humne Duniya Mein Mohabbat Ka Asar Zinda Kiya Hai,
Humne Nafrat Ko Gale Mil-Mil Ke Sharminda Kiya Hai.
हमने दुनिया में मोहब्बत का असर ज़िंदा किया है,
हमने नफ़रत को गले मिल-मिल के शर्मिंदा किया है।

Ai Fitrat Tu Kisi Ke Zarf Ko Itna Bhi Na Aazmaa,
Har Insaan Apni Hadd Mein Lajawaab Hi Hota Hai.
ऐ फ़ितरत तू किसी के ज़र्फ़ को इतना भी न आजमा,
हर इंसान अपनी हद में लाजवाब ही होता है।

Advertisement

Attitude Shayari, Haq Se Agar Do

Chamak Khuddari Ke Chehre Par

Comments