Bhai Chaara Shayari, Desh Bhakti Shayari

Deshbhakti Shayari about Secularism

Advertisement

Aaj Fir Mujhe Iss Baat Ka Gumaan Ho,
Masjid Me Bhajan Mandir Me Azaan Ho,
Khoon Ka Rang Phir Ek Jaisa Ho,
Tum Manaao Diwali Mere Ghar Ramzan Ho.
आज मुझे फिर इस बात का गुमान हो,
मस्जिद में भजन मंदिरों में अज़ान हो,
खून का रंग फिर एक जैसा हो,
तुम मनाओ दिवाली मेरे घर रमजान हो।

Ye Nafrat Buri Hai Na Paalo Ise,
Dilo Mein Khalish Hai Nikalo Ise,
Na Tera, Na Mera, Na Iska, Na Uska,
Yeh Sab Ka Watan Hai, Bacha Lo Ise.
ये नफरत बुरी है न पालो इसे,
दिलो में खलिश है निकालो इसे,
न तेरा, न मेरा, न इसका, न उसका,
यह सब का वतन है, बचा लो इसे।

Main Muslim Hoon, Tu Hindu Hai, Hain Dono Insaan,
Laa Main Teri Geeta Parh Lun, Tu Parh Le Quraan,
Apne Toh Dil Mein Hai Dost Bas Ek Hi Armaan,
Ek Thali Mein Khana Khaye Saara Hindustan.
मैं मुस्लिम हूँ, तू हिन्दू है, हैं दोनों इंसान,
ला मैं तेरी गीता पढ़ लूँ, तू पढ ले कुरान,
अपने तो दिल में है दोस्त, बस एक ही अरमान,
एक थाली में खाना खाये सारा हिन्दुस्तान।

Bhai Chara Deshbhakti Shayari in Hindi

Advertisement

Goonje Kahin Par Shankh, Kahin Pe Ajaan Hai,
Bible Hai, Granth Sahib Hai, Geeta Ka Gyan Hai,
Duniya Mein Kahin Aur Yeh Manzar Naseeb Nahi,
Dikhaao Zamane Ko Yeh Hindustan Hai.
गूंजे कहीं पर शंख, कहीं पे अजान है,
बाइबिल है, ग्रन्थ साहिब है, गीता का ज्ञान है,
दुनिया में कहीं और यह मंज़र नसीब नहीं,
दिखाओ ज़माने को ये हिंदुस्तान है।

Dostana Itna BarKarar Rako Ki,
Majhab Beech Mein Na Aaye Kabhi,
Tum Usey Mandir Tak Chhod Do,
Woh Tumhein Masjid Chhod Jaye Kabhi.
दोस्ताना इतना बरकरार रखो कि,
मजहब बीच में न आये कभी,
तुम उसे मंदिर तक छोड़ दो ,
वो तुम्हें मस्जिद छोड़ आये कभी।

Sanskar Aur Sanskriti Ki Shaan Mile Aise,
Hindu Muslim Aur Hindusthan Mile Aise,
Hum Mil-Jul Kar Rahein Aise Ki,
Mandir Mein Allah Aur Masjid Main Raam Basein Jaise.
संस्कार और संस्कृति की शान मिले ऐसे,
हिन्दू मुस्लिम और हिंदुस्तान मिले ऐसे
हम मिलजुल के रहे ऐसे कि
मंदिर में अल्लाह और मस्जिद में राम बसे जैसे।

Bade Anmol Hai Ye Khoon Ke Rishte,
Inko Tu Bekaar Na Kar,
Mera Hissa Bhi Tu Lele Bhai,
Ghar Ke Aangan Me Diwaar Na Kar.
बड़े अनमोल हे ये खून के रिश्ते
इनको तू बेकार न कर,
मेरा हिस्सा भी तू ले ले मेरे भाई
घर के आँगन में दीवार न कर।

Advertisement

धर्म निरपेक्षता हमारे भारत देश की पहचान है। आपसी मेल-मिलाप और भाई-चारे पर हमने कुछ चुनिन्दा पंक्तियाँ आपके लिए प्रस्तुत की है। यदि आपको शायरी का ये संग्रह पसंद आया है तो कमेन्ट में अपनी राय दें और दोस्तों के साथ शेयर अवश्य करें।

Patriotic Shayari, Chhati Se Laga Lena Bharat Maa

Independence Day Shayari in Hindi

Comments