1. Home
  2. Hindi Shayari
  3. Hindi Shayari Jeene Ka Sahara

Hindi Shayari, Jeene Ka Sahara

Hindi Shayari about Unfavourable Acts of Destiny

By | 22 Jul 2016 |
Ads by Google

Jaruri Toh Nahi Jeene Ke Liye Sahara Ho,
Jaruri Toh Nahi Hum Jinke Hain Woh Humara Ho,
Kuchh Kashtiya Doob Bhi Jaya Karti Hai,
Jaruri Toh Nahi Har Kashti Ka Kinara Ho.
जरुरी तो नहीं जीने के लिए सहारा हो,
जरुरी तो नहीं हम जिनके हैं वो हमारा हो,
कुछ कश्तियाँ डूब भी जाया करती हैं,
जरुरी तो नहीं हर कश्ती का किनारा हो।

Kashti Hai Purani Magar Dariya Badal Gaya,
Meri Talash Ka Bhi Toh Jariya Badal Gaya,
Na Shakl Badli Na Hi Badla Mera Kirdar,
Bas Logo Ke Dekhne Ka Najariya Badal Gaya.
कश्ती है पुरानी मगर दरिया बदल गया,
मेरी तलाश का भी तो जरिया बदल गया,
न शक्ल बदली न ही बदला मेरा किरदार,
बस लोगों के देखने का नजरिया बदल गया।

Ads by Google

Kafiron Ko Kabhi Bhi Jannat Nahi Milti,
Yahi SochKar Humse Mohabbat Nahi Milti,
Koi Shaakh Se Tode Tumhein Toh Toot Jana Tum,
Khud-Ba-Khud Toote Toh Izzat Nahi Milti.
काफिरों को कभी भी जन्नत नहीं मिलती,
यही सोचकर हमसे मोहब्बत नहीं मिलती,
कोई शाख से तोड़े तुम्हें तो टूट जाना तुम,
खुद-ब-खुद टूटे तो इज्जत नहीं मिलती।

Ab Aayein Ya Na Aayein Idhar Puchhte Chalo,
Kya Chahti Hai Unki Najar Puchhte Chalo,
Hum Se Agar Hai Tark-e-Talluq Toh Kya Hua,
Yaaro Koi Toh Unki Khabar Puchhte Chalo.
अब आयें या न आयें इधर पूछते चलो,
क्या चाहती है उनकी नजर पूछते चलो,
हम से अगर है तर्क-ए-ताल्लुक तो क्या हुआ,
यारो कोई तो उनकी खबर पूछते चलो।

Jo Baat Munaasib Hai Wo Hasil Nahi Karte,
Jo Apni Girah Mein Hai Wo Kho Bhi Rahe Hain,
Be-ilm Bhi Hum Log Hain Gaflat Bhi Hai Teri,
Afsos Ke Andhe Bhi Hain Aur So Bhi Rahe Hain.
जो बात मुनासिब है वो हासिल नहीं करते,
जो अपनी गिरह में हैं वो खो भी रहे हैं,
बे-इल्म भी हम लोग हैं ग़फ़लत भी है तेरी,
अफ़सोस कि अंधे भी हैं और सो भी रहे हैं।

Ads by Google

Hindi Shayari, Lahu Lahu Hum The

Hindi Shayari, Kaanton Pe Chalna Aa Gaya