1. Home
  2. Shayari On Beauty
  3. Shayari on Beauty Qayamat Hi

Shayari on Beauty, Qayamat Hi Na Aa Jaye

Very Cute Shayari on Beauty

By | | Shayari On Beauty
Ads by Google

Ilaahi Khair Ho Uljhan Pe Uljhan Barhti Jati Hai,
Na Mera Dam Na Unke Gesuon Ka Kham Niklta Hai,
Qayamat Hi Na Aa Jaye Jo Parde Se Nikal Aao,
Tumhare Munh Chhupane Mein To Yeh Aalam Gujrta Hai.
इलाही खैर हो उलझन पे उलझन बढ़ती जाती है,
न मेरा दम न उनके गेसुओं का खम निकलता है।
कयामत ही न हो जाये जो पर्दे से निकल आओ,
तुम्हारे मुँह छुपाने में तो ये आलम गुजरता है।


Jis Rang Mein Dekho Use Woh PardaNashin Hai,
Aur Uss Pe Ye Parda Hai Ke Parda Hi Nahi Hai,
Mujh Se Koi Puchhe Tere Milne Ki Adaayein,
Duniya Toh Yeh Kehti Hai Ke Mumkin Hi Nahi Hai.
जिस रंग में देखो उसे वो पर्दानशीं है,
और उसपे ये पर्दा है कि पर्दा ही नहीं है,
मुझ से कोई पूछे तेरे मिलने की अदायें,
दुनिया तो यह कहती है कि मुमकिन ही नहीं है।

Ads by Google

Loading...

Ads by Google

Shayari on Beauty, Qatil Ki Najar

Shayari on Beauty, Tum Khuda Se Khoobsurat