1. Home
  2. Two Line Shayari
  3. Iqbal Two Line Shayari

Iqbal Two Line Shayari

अल्लामा इकबाल की दो लाईन शायरी

By | | Two Line Shayari
Iqbal Two Line Shayari
Ads by Google

Aankh Jo Kuchh Dekhti Hai Lab Pe Aa Sakta Nahi,
Mahb-e-Hairat Hun Ki Duniya Kya Se Kya Ho Jayegi.
आँख जो कुछ देखती है लब पे आ सकता नहीं,
महव-ए-हैरत हूँ कि दुनिया क्या से क्या हो जाएगी।


KhudaVand Yeh Tere Sada-Dil Bande Kidhar Jaayein,
Ki Darveshi Bhi Ayyari Hai Sultani Bhi Ayyari.
ख़ुदावंद ये तेरे सादा-दिल बंदे किधर जाएँ,
कि दरवेशी भी अय्यारी है सुल्तानी भी अय्यारी।


Mujhe Rokega Tu Aye Nakhuda Kya Gark Hone Se,
Ki Jin Ko Dubna Hai Dub Jaate Hain Safeenon Mein.
मुझे रोकेगा तू ऐ नाख़ुदा क्या ग़र्क़ होने से,
कि जिन को डूबना है डूब जाते हैं सफ़ीनों में।


Hajaro Saal Nargis Apni Be-Noori Pe Roti Hai.
Badi Mushkil Se Hota Hai Chaman Mein Deedavar Paida.
हज़ारों साल नर्गिस अपनी बे-नूरी पे रोती है,
बड़ी मुश्किल से होता है चमन में दीदावर पैदा।


Umeed-e-Hoor Ne Sab Kuchh Sikha Rakha Hai Vaiz Ko,
Yeh Hazrat Dekhne Mein Seedhe-Saade Bhole-Bhale Hain.
उमीद-ए-हूर ने सब कुछ सिखा रक्खा है वाइज़ को,
ये हज़रत देखने में सीधे-सादे भोले-भाले हैं।


Zameer Jag Hi Jaata Hai Agar Zinda Ho Iqbal,
Kabhi Gunaah Se Pehle Toh Kabhi Gunaah Ke Baad.
ज़मीर जाग ही जाता है अगर जिंदा हो इकवाल,
कभी गुनाह से पहले तो कभी गुनाह के बाद।


Mita De Apni Hasti Ko Agar Kuchh Martaba Chahe,
Ke Dana Khak Mein Milkar Gul-o-Gulzar Banta Hai.
मिटा दे अपनी हस्ती को अगर कुछ मर्तबा चाहे,
कि दाना ख़ाक में मिलकर गुल-ओ-गुलज़ार बनता है।


Lab Pe Aati Hai Duaa Ban Ke Tamanna Meri,
Zindagi Shamma Ki Soorat Ho Khudaaya Meri.
लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी,
जिंदगी शम्मा की सूरत हो खुदाया मेरी।


Bura Samjhu Unhein Mujhse Toh Aisa Ho Nahi Sakta,
Ke Main Khud Toh Hoon Iqbal Apne Nukta-Chinon Mein.
बुरा समझूँ उन्हें मुझसे तो ऐसा हो नहीं सकता,
कि मैं खुद भी तो हूँ इकबाल अपने नुक्ता-चीनों में।


Khuda Toh Milta Hai Par Insaan Hi Nahin Milta,
Yeh Cheez Woh Hai Jo Dekhi Kahin Kahin Main Ne.
खुदा तो मिलता है पर इंसान नहीं मिलता,
यह चीज वो है जो देखी कहीं कहीं मैंने।


Dekh Kaisi Qayamat Si Barpa Hui Hai Aashiyanon Pe Iqbal,
Jo Lahoo Se Tameer Huye The Paani Se Bah Gaye.
देख कैसी क़यामत सी बरपा हुयी है आशियानों पे इकबाल,
जो लहू से तामीर हुए थे पानी से बह गए।


Ilm Mein Bhi Suroor Hota Hai Lekin,
Yeh Woh Jannat Hai Jis Mein Hoor Nahi.
इल्म में भी सुरूर होता है लेकिन,
ये वो जन्नत है जिस में हूर नहीं।

Ads by Google

Loading...

Ads by Google

Faiz Two Line Shayari Collection

Hindi Shayari on Insaniyat