1. Home
  2. Dard Bhari Shayari
  3. Dard Bhari Shayari Dard Ki Shiddat

Dard Bhari Shayari, Dard Ki Shiddat

Hidden Pain of Innocent Lover in 2 Line Shayari

By | 17 Dec 2015 |
Dard Bhari Shayari, Dard Ki Shiddat
Ads by Google

Zakhm De Kar Na Poochh Dard Ki Shiddat,
Dard To Fir Dard Hai Kam Kya Jyada Kya.
ज़ख्म दे कर ना पूछ तू मेरे दर्द की शिद्दत,
दर्द तो फिर दर्द है कम क्या ज्यादा क्या।

Log Kahte Hain Hum Muskrate Bahut Hain,
Aur Hum Thak Gaye Dard Chhupate Chhupate.
लोग कहते है हम मुस्कुराते बहुत है,
और हम थक गए दर्द छुपाते छुपाते।

Isi Khayal Se Gujri Hai Shaam-e-Gham Aksar,
Ki Dard Had Se Jo Gujrega To Muskura Dunga.
इसी ख्याल से गुज़री है शाम-ए-ग़म अक्सर,
कि दर्द हद से जो गुज़रेगा तो मुस्कुरा दूंगा।

Umr Bhar Rulane Wale Dard Shayari
Waqt Har Zakhm Ka Marham Ton Ban Nahi Sakta,
Dard Kuchh Hote Hain Ta-Umr Rulane Wale.
वक़्त हर ज़ख़्म का मरहम तो नहीं बन सकता
दर्द कुछ होते हैं ता-उम्र रुलाने वाले।

Ads by Google

Tazurbe Ne Hamein Ek Baat Toh Sikhayi Hai,
Ek Naya Dard Hi Purane Dard Ki Dawayi Hai.
तजुर्बे ने हमें एक बात तो सिखाई है,
एक नया दर्द ही पुराने दर्द की दवाई है।

Kis Se Paimane Wafa Baandh Rahi Hai Bulbul,
Kal Na Pehchan Sakegi Gul-e-Tar Ki Surat.
किससे पैमाने वफ़ा बाँध रही है बुलबुल,
कल न पहचान सकेगी गुल-ए-तर की सूरत।

Khanjar Chale Kisi Pe Toh Tadapte Hain Hum,
Saare Jahaan Ka Dard Humare Jigar Mein Hai.
खंजर चले किसी पे तो तड़पते हैं हम,
सारे जहां का दर्द हमारे जिगर में है।

Maut Aa Rahi Hai Vaade Pe Ya Aa Rahe Ho Tum,
Kam Ho Raha Hai Dard Dil-e-BeQaraar Ka.
मौत आ रही है वादे पे या आ रहे हो तुम,
कम हो रहा है दर्द दिल-ए-बेकरार का।

Ads by Google

Dard Shayari, Maine Dard Ko Chaha