Read Shayari in Hindi

Gham Shayari, Tere Ishq Ka Gham

TujhKo Pakar Bhi Na Kam Ho Saki Betabi Dil Ki,
Itna Aasaan Tere Ishq Ka Gham Tha Bhi Nahi.
तुझको पा कर भी न कम हो सकी बेताबी दिल की,
इतना आसान तेरे इश्क़ का ग़म था ही नहीं।


Gham Kis Ko Nahi Tujhko Bhi Hai MujhKo Bhi Hai,
Chahat Kisi Ek Ki TujhKo Bhi Hai MujhKo Bhi Hai.
ग़म किस को नहीं तुझको भी है मुझको भी है,
चाहत किसी एक की तुझको भी है मुझको भी है।

...Read More Shayaris
Ads by Google

Romantic Shayari, Humein Pyaar Bahut Hai

Dhokha Na Dena Ke TujhPe Aitbaar Bahut Hai,
Yeh Dil Teri Chahat Ka TalabGaar Bahut Hai,
Teri Soorat Na Dikhe Toh Dikhayi Kuchh Nahi Deta,
Hum Kya Karein Ke TujhSe Humein Pyaar Bahut Hai.
धोखा ना देना कि तुझपे ऐतबार बहुत है,
ये दिल तेरी चाहत का तलबगार बहुत है,
तेरी सूरत ना दिखे तो दिखाई कुछ नहीं देता,
हम क्या करें कि तुझसे हमें प्यार बहुत है।

...Read More Shayaris
Ads by Google

Inspirational Shayari, Hausla Deti Rahi

Inspirational Shayari, Hausla Deti Rahi

Hausla Deti Rahi... Mujhko Meri Baisakhiyan,
Sar Unhin Ke Dam Pe Saari Manzilein Hoti Rahi.
हौसला देती रहीं... मुझको मेरी बैसाखियाँ,
सर उन्ही के दम पे सारी मंजिलें होती रहीं।


Zindagi Jab Zakhm Par De Zakhm To HansKar Humein,
Aajmaish Ki Hadon Ko... Aajmana Chahiye.
ज़िंदगी जब जख्म पर दे जख्म तो हँसकर हमें,
आजमाइश की हदों को... आजमाना चाहिए।

...Read More Shayaris

Intezaar Shayari, Intezaar Ka Hunar

Aankhon Ke Intezaar Ka De Kar Hunar Chala Gaya,
Chaha Tha Ek Shakhs Ko Jaane Kidhar Chala Gaya,
Din Ki Woh Mehfilein Gayin Raaton Ke RatJage Gaye,
Koi Samet Kar Mere Shaam-o-Sahar Chala Gaya.
आँखों के इंतज़ार का दे कर हुनर चला गया,
चाहा था एक शख़्स को जाने किधर चला गया,
दिन की वो महफिलें गईं रातों के रतजगे गए,
कोई समेट कर मेरे शाम-ओ-सहर चला गया।

...Read More Shayaris
Ads by Google

Sad Shayari, Lamhon Ki Daulat

Lamhon Ki Daulat Se Dono Hi Mahroom Rahe,
Mujhe Churana Na Aaya Tumhein Kamana Na Aaya.
लम्हों की दौलत से दोनों ही महरूम रहे,
मुझे चुराना न आया, तुम्हें कमाना न आया।


Na Jaane Iss Zid Ka Nateeja Kya Hoga,
Samjhata Dil Bhi Nahi Main Bhi Nahi Tum Bhi Nahi.
ना जाने इस ज़िद का नतीजा क्या होगा,
समझता दिल भी नहीं मैं भी नहीं और तुम भी नहीं।

...Read More Shayaris
Loading...
Loading...