1. Home
  2. Maut Shayari
  3. Maut Shayari Maut Se Keh Do

Maut Shayari, Maut Se Keh Do

Lover asking for Death in Endless Pain of Incomplete Love

By | 25 Mar 2017 |
Maut Shayari, Maut Se Keh Do
Ads by Google

Ab Maut Se Keh Do Narajgi Khatm Kar Le,
Woh Badal Gaya Hai Jiske Liye Hum Zinda The.
अब मौत से कह दो कि नाराज़गी खत्म कर ले,
वो बदल गया है जिसके लिए हम ज़िंदा थे​।

Teri Hi Justjoo Mein Ji Lee Ek Zindagi Maine,
Gale Mujhko Lagakar Khatm Saanso Ka Safar Kar De.
तेरी ही जुस्तजू में जी लिया इक ज़िंदगी मैंने,
गले मुझको लगाकर खत्म साँसों का सफ़र कर दे।

Yun Toh Haadson Mein Gujri Hai Humari Zindgi,
Haadsa Yeh Bhi Kam Nahi Ke Humein Maut Na Mili.
यूँ तो हादसों में गुजरी है हमारी ज़िंदगी,
हादसा ये भी कम नहीं कि हमें मौत ना मिली।

Ads by Google

Meri Zindagi Toh Gujri Tere Hijr Ke Sahare,
Meri Maut Ko Bhi Koi Na Koi Bahana Chahiye.
मेरी ज़िंदगी तो गुजरी तेरे हिज्र के सहारे,
मेरी मौत को भी कोई बहाना चाहिए।

Le Raha Hai Tu Khudaya Imtehaan Dar Imtehaan,
Par Syaahi Zindagi Ki Khatm Kyun Hoti Nahi.
ले रहा है तू खुदाया इम्तेहाँ दर इम्तेहाँ,
पर स्याही ज़िंदगी की खत्म क्यूँ होती नहीं।

Tasawwar Mein Na Jaane Katib-e-Taqdir Kya Tha,
Mera Anjaam Likha Hai Mere Aagaaz Se Pahle.
तसव्वर में न जाने कातिबे-तकदीर क्या था,
मेरा अंजाम लिखा है मेरे आगाज से पहले।

Ads by Google

Maut Shayari, Dum Aaram Se Nikle

Maut Shayari, Maut-o-Hasti Ki KashmKash