Iqbal Sad Shayari Collection

अल्लामा इकबाल की दर्द भरी शायरी

Advertisement

Iqbal Sad Shayari Collection

Duniya Ki Mehfil Se Ukta Gaya Hun Ya Rab,
Kya Lutf Anjuman Ka Jab Dil Hi Bujh Gaya Ho.
दुनिया की महफ़िलों से उकता गया हूँ या रब,
क्या लुत्फ़ अंजुमन का जब दिल ही बुझ गया हो।

Qaid-e-Mausam Se Tabiyat Rahi Aazad Uski,
Kaash Gulshan Mein Samjhta Koi Faritaad Uski.
क़ैद ए मौसम से तबीयत रही आज़ाद उसकी,
काश गुलशन में समझता कोई फ़रियाद उसकी।

Advertisement

Mana Ke Teri Deed Ke Qabil Nahi Hun Main,
Tu Mera Shauk Dekh Mera Intezaar Dekh.
माना कि तेरी दीद के क़ाबिल नहीं हूँ मैं,
तू मेरा शौक़ देख मिरा इंतिज़ार देख।

Iss Daur Ki Zulmat Mein Har Qalbe Preshan Ko,
Woh Daag-e-Mohabbat De Jo Chaand Ko Sharma De.
इस दौर की ज़ुल्मत में हर कल्बे परेशाँ को,
वो दाग-ए-मोहब्बत दे जो चाँद को शरमा दे।

Main Ro Ro Jo Kahne Laga Dard-e-Dil,
Woh Muh Pher Kar Muskurane Lage.
मैं रो रो के कहने लगा दर्द-ए-दिल,
वो मुंह फेर कर मुस्कुराने लगे।

Sad Shayari, Dilbar Badal-Badal Kar

Sad Shayari, Tabahiyon Ka Gam Nahi

Comments